By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

समस्तीपुर में नाव हादसा में 4 शव बरामद, तीन लोगों की तलाश जारी

HTML Code here
;

- sponsored -

बिहार के समस्तीपुर जिले के सदर अनुमंडल के कल्याणपुर के नामापुर में बड़ा नाव हादसा हो गया है.इस हादशे में नाव पर सवार लापता 7 लोगों में से 4 लोगों के शव वरामद हो चुके हैं. तीन लोग अब भी लापता हैं. स्थानीय गोताखोरों की मदद से उन की भी तलाश भी जारी है.

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव : बिहार के समस्तीपुर जिले के सदर अनुमंडल के कल्याणपुर के नामापुर में बड़ा नाव हादसा हो गया है.इस हादशे में नाव पर सवार लापता 7 लोगों में से 4 लोगों के शव वरामद हो चुके हैं. तीन लोग अब भी लापता हैं. स्थानीय गोताखोरों की मदद से उन की भी तलाश भी जारी है. खबर के अनुसार शुक्रवार की शाम आंधी के कारण अनियंत्रित होकर चकमेहसी के नामापुर में नाव पलट गई थी. नाव पर कुल 12 लोग सवार थे जिनमें से 5 लोग स्थानीय लोगों के सहयोग से तैर कर बाहर निकल गए थे. पर नाव पर सवार सात लोग लापता हो गए थे. उनकी तलाश में स्थानीय गोताखोर के माध्यम से की जा रही थी.

पुलिस के अनुसार यह दुर्घटना चकमेहसी थाना क्षेत्र के वाटरवेज बांध और नामापुर की बीच हुई है. यह नाव हादसा उस वक्त हुआ जब सभी लोग नाव पर सवार होकर नामापुर गांव जा रहे थे. उसी दौरान आंधी की वजह से नाव अपना संतुलन खो बैठा जिसके कारण यह बड़ी नाव दुर्घटना हो गई. इस नाव हादसे की खबर जैसे ही फैली पूरे इलाके में कोहराम मच गया.नाव हादसा के सूचना स्थानीय लोगों के द्वारा प्रशासन को दी गई . मौके पर चकमेहसी पुलिस सदर एसडीओ आरके दिवाकर सहित कई अधिकारी मौके पर पहुंचकर राहत और बचाव कार्य का जायजा लिया. अंधेरा होने के वजह से राहत और बचाव कार्य में दिक्कतें आ रही थी. जिला प्रशासन के द्वारा रेस्क्यू कार्य के लिए एसडीआरएफ के टीम को बुलायी गयी.

गौरतलब है कि समस्तीपुर के कल्याणपुर प्रखंड के नामापुर में पिछले भारत 27 जुलाई को भी बड़ा नाव हादसा हुआ था. जब रात लगभग 11 बजे दो परिवार घर में पानी घुस जाने की वजह से लोग नाव के सहारे ऊंचे स्थान पर जा रहे थे. उसी दौरान 11000 बोल्ट के हाईटेंशन तार की चपेट में आने से बड़ा हादसा हो गया था. जिस वक्त नाव हाईटेंशन तार की चपेट में आई उस समय नाव पर 10 से अधिक लोग सवार थे. हादसे के बाद 2 लोग लापता होगए थे. जिनका को काफी मशक्कत के बाद एसडीआरएफ की टीम के द्वारा बरामद किया गया था.

HTML Code here
;

-sponsered-

;
HTML Code here

-sponsored-

Comments are closed.