By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

पटना : खनन बंद होने से पहले बालू माफिया जुटे अवैध भण्डारण में, प्रशासन को दिखा रहे ठेंगा

;

- sponsored -

राजधानी पटना से सटे बिहटा और पालीगंज के सोन तटीय इलाकों में बालू माफियाओ ने अंधेरगर्दी मचा रखी है. 30 जून से तीन महीने के लिए बालू खनन बंद होने के पहले ही माफिया कई जगहों पर अवैध तरीके से बालू का भंडारण कर पहाड़ खड़ा कर दिया है.

-sponsored-

-sponsored-

पटना : खनन बंद होने से पहले बालू माफिया जुटे अवैध भण्डारण में, प्रशासन को दिखा रहे ठेंगा

सिटी पोस्ट लाइव : राजधानी पटना से सटे बिहटा और पालीगंज के सोन तटीय इलाकों में बालू माफियाओ ने अंधेरगर्दी मचा रखी है. 30 जून से तीन महीने के लिए बालू खनन बंद होने के पहले ही माफिया कई जगहों पर अवैध तरीके से बालू का भंडारण कर पहाड़ खड़ा कर दिया है. यही नही बिहटा के बिंदौल बालू घाट पर तो प्रशासन के आदेश की धज्जियां उड़ाई जा रही है. तीन दिनों पहले ही दानापुर एसडीओ ने पटना डीएम की अनुशंसा पर विवादित जमीन पर धारा 144 लगाई है. उसके बावजूद बालू माफिया उसी रास्ते से बालू का परिवहन और भंडारण कर रहे है.

दरसअल बिहटा के बिंदौल बालू घाट पर रास्ते के विवाद में एक दलित परिवार, नेपाली राम की हत्या हो गयी थी. उसके बाद जिला प्रशाशन ने गाँव मे दो पक्षों के बीच तनाव को देखते हुए विवादित रास्ते पर धारा 144 लगा दी. लेकिन बिना पुलिस के भय के दिन रात बालू लदी ट्रकों का परिचालन कर रहे हैं. यही नहीं इसी बिंदौल गाँव मे एक ही लाइसेंस पर कई अवैध बालू के टाल हैं. लेकिन उसपर भी किसी की नज़र नहीं है. पालीगंज अनुमंडल के जीतन छपरा, निसरपुरा, लहलादपुर बालू घाटों पर भी यही नज़ारा है. अब जब बालू खनन बंद होने में शेष पांच दिन और बचे हैं तो घाट चलाने वालों ने तो चालान काटने की प्रक्रिया भी धीमी कर दी है. जिससे बाजार में बालू की किल्लत हो और अगले महीनें से यही बालू उचे दामों पर बिके.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

बिंदौल गाँव के ग्रामीण कहते हैं कि उनके गाँव में तो बालू को लेकर तनाव इतना है कि लोग एक दूसरे से सीधे मुँह अब बात तक नहीं करते, गौरतलब है कि बालू के वर्चस्व की लड़ाई में बिंदौल गांव मे अब तक तीन हत्याएं हो चुकी है. यही नही दो तीन सालों में कई पुलिसकर्मियों पर भी गाज गिर चुकी है, लेकिन अवैध बालू खनन और भंडारण बदस्तूर जारी है. इस संबंध में जब बन्दोबस्तधारी कंपनी के निदेशक से बात की गई तो उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा निर्धारित बालू को ही वे निकाल कर भंडारण करवाते है.

जिसका पैमाना और पूरी जानकारी खनन विभाग को रहती है वही जिला खनन पदाधिकारी ने कहा कि अवैध भंडारण वाले करनेवालों पर कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी. अब तक जिले में कुल 72 लाइसेंस निर्गत किये जा चुके कुछ लंबित है उसके लिए जिला प्रसाशन की ओर से एक टीम भी गठित की गई है. वही बिंदौल में धारा एक सौ चौवालीस लगाने  के भी अवैध खनन पर पटना एसएसपी ने दानापुर एसडीपीओ को जांच कर कार्रवाई का भरोसा दिया है. उन्होंने कहा कि नियम का उलंघन करनेवाले नही बक्शे जायेंगे.

पटना ग्रामीण से निशांत कुमार की रिपोर्ट 

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.