By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

सीएम का तंज-‘संविधान का क, ख, ग, घ, जानते हैं जी, जो आरक्षण खत्म होने की बात करते हैं’

;

- sponsored -

बिहार के सीएम और जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार राजद नेता तेजस्वी यादव पर हमलावर थे। तेजस्वी का बिना नाम लिये नीतीश कुमार ने कहा कि जो लोग संविधान का क,ख,ग,घ भी नहीं जानते वे संविधान खत्म होने का राग अलापते रहते हैं।

-sponsored-

-sponsored-

सीएम का तंज-‘संविधान का क, ख, ग, घ, जानते हैं जी, जो आरक्षण खत्म होने की बात करते हैं’

सिटी पोस्ट लाइवः बिहार के सीएम और जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार राजद नेता तेजस्वी यादव पर हमलावर थे। तेजस्वी का बिना नाम लिये नीतीश कुमार ने कहा कि जो लोग संविधान का क,ख,ग,घ भी नहीं जानते वे संविधान खत्म होने का राग अलापते रहते हैं। सीएम ने लालू-राबड़ी शासन काल पर एक बार फिर हमला किया और कहा कि तब स्थिति बदतर थी, आज स्थिति इतनी बेहतर है कि बिहार में लालटेन की जरूरत हीं समाप्त हो गयी है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को पटना साहिब से एनडीए की ओर से बीजेपी उम्मीदवार रविशंकर प्रसाद के समर्थन में एक चुनावी सभा को संबोधित किया. इसमें उन्होंने एक बार फिर लालू-राबड़ी शासनकाल को निशाने पर लेते हुए कहा कि हम घर-घर बिजली पहुंचा दिए हैं अब अगर गलती से इन लोगों के हाथ में सत्ता गई तो बिजली काट देगा, घर-घर लालटेन पहुंचा देगा.

उन्होंने आरक्षण खत्म करने की बात पर तेजस्वी यादव का बिना नाम लिए तंज कसते हुए कहा कि लोग संविधान के क ख ग घ नहीं जानते लेकिन बेवजह बात करते हैं.उन्होंने लालू-राबड़ी शासन काल पर कहा कि उस दौर में नरसंहार होते थे, बिहार की छवि कितनी बुरी हो गई थी.न सड़क, न बिजली. किसी क्षेत्र में काम नहीं. पढ़ाई का इंतजाम नहीं. कहीं कोई काम नहीं. हम लोगों ने काम किया कानून का राज कायम किया है. सीएम नीतीश ने कहा कि उनलोगों ने क्या क्या? खुद जेल गए तो पत्नी को गद्दी पर बैठा दिया. जब वोट का वक़्त आता है तो जात-पात धर्म-मजहब के नाम पर वोट मांगते हैं. हम लोगों ने तो हर घर में बिजली पहुंचा दिया अब लालटेन की जरूरत नहीं है.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

उन्होंने कहा कि हम देखे कि जेल से खुला पत्र लिख रहे हैं. सीएम नीतीश ने तेजस्वी यादव का नाम लिए बिना कहा कि हम लोग के विरोध में जो है वो अफवाह फैला रहे हैं कि संविधान खतरे में है, आरक्षण खत्म कर देगा. हम आपको कहते हैं कि ऐसी कोई ताकत नहीं है जो आरक्षण खत्म कर देगा. लोग संविधान के क ख ग घ नहीं जानते लेकिन बेवजह बात करते हैं.

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.