By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

सीएम नीतीश कुमार नहीं जायेंगे,बीजेपी नेता अश्विनी चौबे की चुनावी सभा में

Above Post Content

- sponsored -

सिटी पोस्ट लाइव- बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लोकसभा चुनावों को लेकर व्यस्त हैं लेकिन वे अपनी सहयोगी पार्टियों के प्रत्याशियों के रैलियों में भी जाने से पहले कई बातों का ध्यान रख रहे हैं. जैसे बिहार के बक्सर और सासाराम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की चुनावी सभा है.

Below Featured Image

-sponsored-

सीएम नीतीश कुमार नहीं जायेंगे, बीजेपी नेता अश्विनी चौबे की चुनावी सभा में

सिटी पोस्ट लाइव- बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमालोकसभा चुनावों को लेकर व्यस्त हैं लेकिन वे अपनी सहयोगी पार्टियों के प्रत्याशियों के रैलियों में भी जाने से पहले कई बातों का ध्यान रख रहे हैं. जैसे बिहार के बक्सर और सासाराम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की चुनावी सभा है. इसमें सासाराम कि सभा में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मौजूद रहेंगे, लेकिन वे बक्सर की सभा में मौजूद नहीं रहेंगे. राजनीतिक गलियारों में ये चर्चा गरम है कि आखिर सीएम नीतीश बक्सर क्यों नहीं जा रहे हैं?

गौरतलब है कि बक्सर से केन्द्रीय मंत्री अश्विनी चौबे और सासाराम से छेदी पासवान भाजपा के उम्मीदवार हैं. इन दोनों उम्मीदवारों की छवि पर गौर करें तो छेदी पासवान की छवि अमूमन साफ-सुथरी है, लेकिन अश्विनी चौबे अपने सांप्रदायिक माने जाने वाले बयानों को लेकर खासे चर्चित रहे हैं जो नीतीश सरकार के लिए गले की हड्डी बनते रहे हैं. बीते साल फरवरी और मार्च महीने में बिहार के कई जिलों में रामनवमी यात्रा को लेकर सम्प्रदायिक तनाव को घटनाओं के बाद नीतीश कुमार की जमकर आलोचना हुई थी. कई घटनाओं के पीछे केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत को जेल भी जाना पड़ा था.

Also Read
Inside Post 3rd Paragraph

-sponsored-

इसके साथ ही भागलपुर में जेडीयू की घुसपैठ के बाद अश्विनी चौबे की नाराजगी भी जगजाहिर है. दरअसल इस बार के लोकसभा चुनाव में बीजेपी की परंपरागत सीट भागलपुर जेडीयू के खाते में चली गई. इसके बाद वहां बीजेपी कार्यकर्ताओं में निराशा रही जिसका खामियाजा शायद जेडीयू को आने वाले नतीजे में उठाना भी पड़े. जेडीयू के खेमे की ओर से इसका जिम्मेदार अश्विनी चौबे को ही माना जा रहा है.

जाहिर है नीतीश कुमार के लिए एक नहीं तीन कारण बन रहे हैं जो बक्सर में अश्विनी चौबे की सभा से वे दूरी बनाए हुए हैं. हालांकि नीतीश कुमार ने चार दिन पहले बक्सर में एक चुनावी सभा को संबोधित किया है, लेकिन इसे सिर्फ रस्म अदायगी ही माना गया. बता दें कि बिहार में लोकसभा चुनाव के छः चरणों के चुनाव सम्पन्न हो चुके हैं. बाकी बचे अंतिम चरण के मतदान के लिए जोर शोर से चुनावी सभाएं सभी दलों की ओर से जारी है.
                                                                                                                                                                    जे.पी.चंद्रा की रिपोर्ट

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.