By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

विधायकों के शपथ से पहले कांग्रेस का हंगामा, गुलनाज मामले में सदन के बाहर की नारेबाजी

;

- sponsored -

17वीं बिहार विधानसभा का पहला सत्र आज से शुरू हो गया है। निर्वाचित विधायकों के शपथ से पहले ही कांग्रेस के विधायकों ने हंगामा शुरू कर दिया है। कांग्रेस विधायक सदन के बाहर नारेबाजी कर रहे हैं।

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव : 17वीं बिहार विधानसभा का पहला सत्र आज से शुरू हो गया है। निर्वाचित विधायकों के शपथ से पहले ही कांग्रेस के विधायकों ने हंगामा शुरू कर दिया है। कांग्रेस विधायक सदन के बाहर नारेबाजी कर रहे हैं।सदन के बाहर वामदलों के नेता भी नारेबाजी की हैं।  भूमि सुधार कानून, गन्ना किसानों के मुद्दे और वैशाली में छेड़खानी के विरोध पर मनचलों द्वारा जलाकर मारी गई गई गुलनाज को इंसाफ दिलाने की मांग कर रहे हैं।

सत्र के पहले दिन सदस्यों का पहुंचना जारी है।इस बार 243 सदस्यीय बिहार विधानसभा में 43.2 फीसदी अर्थात 105 ऐसे सदस्य आए हैं जो पहली बार विधानसभा की सदस्यता की शपथ लेंगे। पिछली विधानसभा के भी सदस्य रहे 98 यानी कि 40.3 फीसदी सदस्य इस विधानसभा में भी दोबारा जीतकर आए हैं। वहीं 40 (16.46) ऐसे सदस्य भी 23 और 24 नवम्बर के बीच सदस्यता लेंगे जो अंतराल (ब्रेक) के बाद जीतकर फिर से बिहार विधानसभा पहुंचे हैं।

सत्र हंगामेदार होने के आसार हैं। इस बार विपक्ष भी मजबूत है। नीतींश कुमार की अगुवाई में एनडीए के गठन के साथ ही विपक्ष के हमले तेज हो गए हैं। खासकर महागठबंधन के नेता तेजस्वी यादव के हमले। बिहार का मजबूत विपक्ष इस बार मंत्रिमंडल में दागीं मंत्री, नौकरी और चुनाव में धांधलीे के आरोप को लेकर सदन में मुद्दा बना सकता है।

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

बिहार विधानसभा सत्र के दौरान विधि-व्यवस्था के मद्देनजर विधानमंडल परिसर और आसपास धारा 144 लगाई गई है। इसके तहत5 या 5 से अधिक व्यक्तियों का जमावड़ा या जुलूस गैर कानूनी माना जाएगा। इसके अलावा हथियार एवं रोशनी सहित या रहित धरना, घेराव, किसी भी तरह का आग्नेयास्त्र लेकर चलना और बिना अनुमति लाउडस्पीकर बजाना पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा। सत्र को लेकर डीएम कुमार रवि और एसएसपी उपेंद्र कुमार शर्मा ने संयुक्तादेश निर्गत कर पर्याप्त संख्या में दंडाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी एवं पुलिस बल की प्रतिनियुक्ति की गई है।

आपको बता दें कि कोविड-19 के संक्रमण के बीच आयोजित होने वाले इस पांच दिवसीय सत्र में दो दिन सदस्यों के लिहाज से खासा महत्वपूर्ण होगा। सत्र को लेकर सुरक्षा की चाक-चौबंद व्यवस्था हुई है।

;

-sponsored-

Comments are closed.