By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

चौथा चरण: कन्हैया और डिंपल यादव सहित कई नेताओं के किस्मत होंगे EVM में बंद

Above Post Content

- sponsored -

सोमवार को चौथे चरण के लोकसभा चुनाव में महज कुछ ही घंटे बाकि हैं. सभी प्रत्याशियों की आँखे कल के मतदान पर टिकी हैं. इस चरण में कई लोकसभा सीटों पर काफी कड़ी टक्कर है . कई लोकसभा सीटों पर तो बाहुबली या उनकी पत्नियां अपनी किस्मत आजमा रही हैं.

Below Featured Image

-sponsored-

चौथा चरण: कन्हैया और डिंपल यादव सहित कई नेताओं के किस्मत होंगे EVM में बंद

सिटी पोस्ट लाइव- सोमवार को चौथे चरण के लोकसभा चुनाव में महज कुछ ही घंटे बाकि हैं. सभी प्रत्याशियों की आँखे कल के मतदान पर टिकी हैं. इस चरण में कई लोकसभा सीटों पर काफी कड़ी टक्कर है. कई लोकसभा सीटों पर तो बाहुबली या उनकी पत्नियां अपनी किस्मत आजमा रही हैं. वहीं बिहार के बेगूसराय, दरभंगा, उजियारपुर, समस्तीपुर और मुंगेर लोकसभा सीटों पर कड़ा मुकाबला प्रत्याशियों के बीच है.

जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार, सपा प्रमुख अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव, पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती, आरएलएसपी चीफ उपेंद्र कुशवाहा, राजस्थान के सीएम अशोक गहलौत के पुत्र वैभव गहलौत और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के बेटे नकुलनाथ की सियासी किस्मत कल 29 अप्रैल को ईवीएम में कैद हो जाएगी. केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत एवं गिरिराज सिंह के राजनीतिक भाग्य का फैसला भी लोकसभा चुनाव के चौथे चरण के मतदान में ही होने वाला है.

Also Read
Inside Post 3rd Paragraph

-sponsored-

सोमवार को कुल 9 राज्यों की 71 सीटों पर वोटर अपना सांसद चुनने के लिए मतदान करेंगे. इसमें महाराष्ट्र की 17, उत्तर प्रदेश और राजस्थान की 13-13, पश्चिम बंगाल की 8, मध्य प्रदेश और ओडिशा की 6-6, बिहार की 5, झारखंड की 3 और जम्मू कश्मीर की एक सीट शामिल है. सत्ताधारी पार्टी बीजेपी की नजर हिंदी भाषी प्रदेशों के अलावा ओडिशा और पश्चिम बंगाल पर लगी हुई है, जहां उसे बड़े परिवर्तन की उम्मीद है. क्योंकि इन दोनों प्रदेशों में बीजेपी 2014 की मोदी लहर में भी कुछ खास नहीं कर पाई थी.

अब यह देखना दिलचस्प होगा कल ईवीएम में जनता किसका भाग्य तय करती है. क्योंकि कई जगहों पर लोगों की समस्याएं एवं शिकायते भी हैं. जिससे लोगों ने कई जगहों पर तो वोट का बहिष्कार भी कर रखा है. इन ग्रामीणों का कहना है कि हंमलोगों के यहाँ विकास नहीं हुआ है. खैर इन सब के बीच चर्चित सीटों के चुनाव देखने लायक होंगे.

जे.पी.चंद्रा की रिपोर्ट

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.