By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

गुरु रहमान ने एक वीडियो जारी कर खुद को बेकसूर बताया कहा कि छात्रों से उन्होंने ट्रेन रोकने की बात कही थी, लेकिन हिंसा करने को नहीं कहा था।

Guru Rahman released a video saying that he was innocent and said that he had asked the students to stop the train, but did not ask them to do violence

HTML Code here
;

- sponsored -

 पहले तो पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार करने के लिए दबिश बनाई। लेकिन, गुरु रहमान नहीं मिले तो इनकम टैक्स की टीम ने उनके ठिकानों पर छापेमारी कर दी। हालांकि गुरु रहमान अभी प्रशासन की नजर से दूर हैं।

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव – छात्रो को भड़काने का आरोप गुरु रहमान पर लगा है | इसके बाद गुरु रहमान ने अपने सफाई में एक वीडियो जरी कि है जिसमे वो कह रहे है | छात्रों से उन्होंने ट्रेन रोकने की बात कही थी, लेकिन हिंसा करने को नहीं कहा था। गुरु रहमान ने कहा कि अगर उनके खिलाफ सबूत मिलते हैं तो वो सजा भुगतने को तैयार हैं। ग्निपथ योजना के विरोध में छात्रों को भड़काने का आरोप लगाने के बाद फरार चल रहे गुरु रहमान ने वीडियो मैसेज में सफाई दी है।

 

गुरु रहमान अभी प्रशासन की नजर से दूर हैं।

पहले तो पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार करने के लिए दबिश बनाई। लेकिन, गुरु रहमान नहीं मिले तो इनकम टैक्स की टीम ने उनके ठिकानों पर छापेमारी कर दी। हालांकि गुरु रहमान अभी प्रशासन की नजर से दूर हैं। उन्होंने अपनी सफाई का वीडियो जारी किया है। गुरु रहमान ने कहा कि जो भी घटना हुई है, अग्निपथ के विरोध में उसमें मेरा प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से कहीं भी योगदान नहीं था। मैं छात्रों के प्रति पूरी तरह से डेडिकेटेड रहता हूं। गुरु रहमान ने कहा कि पहले दिन कुछ बच्चे आए थे|

 

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

उसके बाद मेरे ऊपर FIR हुई है

जिनको मैं नहीं पहचानता हूं, उन्होंने कहा था कि हम लोग रेल रोकने जा रहे हैं। लेकिन हमने कहा था कि रेल रोको लेकिन कुछ नुकसान नहीं पहुंचाना। हिंसात्मक काम नहीं करना है। उसके बाद मेरे ऊपर FIR हुई है और इनकम टैक्स का छापा पड़ा है। मेरे द्वारा किसी भी तरह की कोई भी हिंसा की बात कही गई है तो मैं उसकी सजा भुगतने को तैयार हूं। गुरु रहमान ने कहा कि मैं 1994 से पढ़ाने का काम कर रहा हूं। मैंने पूरा शरीर दान कर दिया है। मैं कभी भी हिंसा की बात नहीं करता हूं। मैं कभी भी हिंसा के पक्ष में लोगों को भड़काता नहीं हूं। मैं हिंसा के पक्ष में इसलिए भी नहीं हूं कि यदि छात्र हिंसा करते हैं तो उन पर एफआईआर होती है और उनका कैरियर खराब हो जाता है। दानापुर की घटना पूरी तरह से गुंडों द्वारा की गई है। कहीं भी कुछ भी यदि व्हाट्सएप या कोई मैसेज मेरी ओर से किया गया है तो मैं सजा भुगतने को तैयार हूं।

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.