By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

लखीसराय जिले में मिड डे मील खाने से कई स्कूली बच्चे बीमार ,अस्पताल में भर्ती

;

- sponsored -

बिहार में एक बार फिर से मिड डे मील में अनियमितता का मामला प्रकाश में आया है. जहां सरकारी स्कूलों में पढ़नेवाले स्कूली बच्चों को मिड डे मील का भोजन खाने के बाद अचानक अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा. बीमार पड़े बच्चों को जमुई के सिकंदरा स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती कराया गया है

-sponsored-

-sponsored-

लखीसराय जिले में मिड डे मील खाने से कई स्कूली बच्चे बीमार ,अस्पताल में भर्ती

सिटी पोस्ट लाइव- बिहार में एक बार फिर से मिड डे मील में अनियमितता का मामला प्रकाश में आया है. जहां सरकारी स्कूलों में पढ़नेवाले स्कूली बच्चों को मिड डे मील का भोजन खाने के बाद अचानक अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा. बीमार पड़े बच्चों को जमुई के सिकंदरा स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती कराया गया है . जहां 50 से ज्‍यादा बच्‍चे बीमार बताए जा रहे हैं. दरअसल यह मामला लखीसराय जिले से जुड़ा है.

बीमार बच्चे लखीसराय के हलसी थाना इलाके के उत्क्रमित मध्य विद्यालय महरथ में पढने वाले हैं. जानकारी के अनुसार, स्कूल में मिड डे मील खाने के बाद स्कूली बच्चों की तबियत बिगड़ने लगी. बच्चों की ओर से उल्टी की शिकायत आने के बाद उन्हें आनन-फानन में जमुई के सिकंदरा स्थित सरकारी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया. तीन से चार बच्चों को निजी नर्सिंग होम मे भर्ती कराया गया है. मिड डे मील खाने के बाद लगभग 50 की संख्या में बच्चे बीमार हो गए थे. सरकारी अस्पताल में इलाज करवाने के बाद उनकी स्थिति सामान्य बताई गई है. स्कूल के मिड डे मील में छिपकली के गिरने की आशंका जताई गई है.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

वहीं इस मामले में जमुई के सिविल सर्जन डॉक्टर श्याम मोहन दास ने बताया कि फूड प्वाईजनिंग के कारण ही स्कूली बच्चों की तबियत बिगड़ी थी जिनका इलाज होने के बाद उनकी स्थिति सामान्य है. बीमार बच्चों मे दो-तीन बच्चों मे छटपटाहट होने के शिकायत के बारे मे सिविल सर्जन ने बताया है. आपको बता दें कि मध्यान भोजन खाने के बाद स्कूलों में बच्चों के बीमार पड़ने का यह पहला मामला नहीं है. अक्सर इस तरह की खबरे स्कूलों से आती रहती हैं. बिहार के मशरक में ही एक बार मिड डे मील खाने से कई बच्चों की मौत भी हो गई थी.

जे.पी.चंद्रा की रिपोर्ट 

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.