By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

बिहार की राजनीति में हार की हरारत: लोजपा ने कहा-‘हार से सबक ले बीजेपी’

;

- sponsored -

लोजपा ने भी यह सलाह बीजेपी को दे दी है कि अपनी हार से भाजपा को सबक लेना चाहिए। लोजपा संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष चिराग पासवान ने बीजेपी को यह नसीहत दी है कि हनुमान और बाली जैसे बयानों से बीजेपी को बचना चाहिए.

-sponsored-

-sponsored-

बिहार की राजनीति में हार की हरारत: लोजपा ने कहा-‘हार से सबक ले बीजेपी’

.सिटी पोस्ट लाइवः बीजेपी राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ जैसे महत्वपूर्ण राज्यों में चुनाव हारी है। इस हार की हरारत यानि इस हार से सियासत में जो गर्माहट है उसमें बीजेपी अब झुलसने लगी है। विपक्षी दल हीं नहीं अब सहयोगी भी बीजेपी को आंखे दिखाने लगे हैं। पहले जदयू का ने यह नसीहत दी की हार से बीजेपी को सबक लेना चाहिए तो अब लोजपा ने भी यह सलाह बीजेपी को दे दी है कि अपनी हार से भाजपा को सबक लेना चाहिए। लोजपा संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष चिराग पासवान ने बीजेपी को यह नसीहत दी है कि हनुमान और बाली जैसे बयानों से बीजेपी को बचना चाहिए. साथ ही उन्होंने कहा जो मुद्दा कोर्ट में है उस पर बयान देने से बचना चाहिए. चिराग पासवान ने कहा कि एनडीए का एजेंडा विकास है और हमें उसपर फोकस करना चाहिए. पांच राज्यों में बीजेपी की हार पर भी चिराग ने कहा कि हमलोगों को मंथन करने की जरूरत है.सीट बंटवारे को लेकर चिराग ने यह स्पष्ट कहा कि एनडीए में सीटों का बंटवारा अभी नहीं हुआ है.

चिराग पासवान ने न सिर्फ बीजेपी को नसीहत दी है बल्कि यह कहकर कि लोजपा को सम्मानजनक सीटें मिलनी चाहिए बीजेपी की मुश्किलें और बढ़ा दी है। हार के बाद यह संकेत साफ है कि बीजेपी के सहयोगी दल अब आंख तरेरने लगे हैं। जाहिर है तीन राज्यों में बीजेपी की हार ने 2019 के लिए उसकी राह ज्यादा मुश्किल कर दी है। 2019 के लिहाज से नतीजों का तात्कालिक असर यही पड़ा है कि एनडीए अंदरखाने कलह सुलगने लगी है। जाहिर है बीजेपी की सेहत के लिए कलह ठीक नहीं है। उपेन्द्र कुशवाहा पहले हीं एनडीए छोड़ चुके हैं। शिवसेना भी अक्सर हमलावर रहती है और अब जेडीयू और लोजपा जैसे सहयोगी बीजेपी की मुश्किलें बढ़ा रहे हैं। जाहिर है हार के बाद विपक्षी दलों के हमले और सहयोगियों के सधे हमलों से बचना बीजेपी की दोहरी चुनौती है।

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.