By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

“विशेष” : सहरसा में है महा गुंडाराज, इंजीनियरिंग छात्र की गोली मारकर हत्या

;

- sponsored -

सहरसा जिला पूरी तरह से अपराधियों के चंगुल में है। इस जिले में महाजंगलराज और महागुंडाराज है। इस इलाके में अपराधियों की समानांतर सरकार चल रही है। पुलिस अधिकारी और पुलिस के जवान अपराध रोकने की जगह हफ्ता, महीना और रोजाना वसूली में जी जान से जुटे हैं।

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

“विशेष” : सहरसा में है महागुंडाराज, इंजीनियरिंग छात्र की गोली मार कर हत्या

सिटी पोस्ट लाइव : सहरसा जिला पूरी तरह से अपराधियों के चंगुल में है। इस जिले में महाजंगलराज और महागुंडाराज है। इस इलाके में अपराधियों की समानांतर सरकार चल रही है। पुलिस अधिकारी और पुलिस के जवान अपराध रोकने की जगह हफ्ता,महीना और रोजाना वसूली में जी जान से जुटे हैं। बड़े अधिकारी तो मोटी हो चुकी आपराधिक फाईल और जमीनी विवाद के निपटारे में मोटी उगाही में खुद को मजनू की तरह झोंके हुए हैं। एक महीने के भीतर गोली मारकर हत्या की यह चौथी घटना है ।ताजा मामला सहरसा जिले के पतरघट इलाके का है, जहां मधेपुरा इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ाई कर रहे राहुल मंडल नाम के युवक को अज्ञात अपराधियों ने गोली मार कर हत्या कर दी।

शव को देखने से लगता है कि यह घटना आज अहले सुबह की है ।मृतक राहुल कुमार मंडल पिता-रामसेवक मंडल,गाँव- विशनपुर,जिला अररिया का निवासी था और मधेपुरा में रहकर पढ़ाई कर रहा था ।मृतक छात्र की उम्र लगभग 23 वर्ष है ।मृतक के पास से उसका आधार कार्ड,मधेपुरा इंजीनियरिंग कॉलेज का पहचान पत्र सहित एक मोबाइल बरामद हुआ है ।घटना पतरघट प्रखंड के जेम्हरा पंचायत स्थित भद्दी गांव के भेलवा पोखर के समीप की है ।मृतक राहुल एक पैर से विकलांग है। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुँचकर शव को अपने कब्जे में लेकर, सबसे पहले शव को पोस्टमार्टम के लिए सहरसा सदर अस्पताल भेज दिया ।ताकि स्थानीय लोग किसी तरह का हँगामा और बखेड़ा ना खड़ा कर सकें ।पुलिस ने त्वरित गति से मृतक के परिजनों को इस घटना की सूचना दे दी ।

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

दौर ए हत्या का सिलसिला लगातार जारी है….
अज्ञात अपराधियों ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे छात्र को, गोली मार कर मौत के घाट उतारा ।
मौके पर पुलिस अधिकारियों ने पहुँचकर,शव को पहले कब्जे में लिया,फिर पोस्टमार्टम के लिए भेजा सदर अस्पताल, सहरसा ।
सहरसा जिले के पतरघट प्रखंड के जेम्हरा पंचायत स्थित भद्दी गांव के भेलवा पोखर के समीप की घटना ।अपराधियों ने अहले सुबह घटना को दिया अंजाम ।

टिप्पणी-सूबे के मुखिया नीतीश कुमार और डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय,इस जिले पर तरस खाइए ।इस जिले के पुलिस अधिकारी के तिलस्मी पेट,वेतन से नहीं भर रहे हैं ।दिन-रात मोटी कमाई की जुगाड़ में रहने वाले,ये अधिकारी,कभी भी अपराध पर नकेल नहीं कस सकते हैं ।इन तमाम अधिकारियों को अविलंब राज्य मुख्यालय बुला लें। सहरसा जिला में पुलिस की वजह से ही अपराध हो रहे हैं। इस जिले को खाकी नहीं चाहिए। पहले खादी से परेशान, अब खाकी ने किया जीना मुहाल ।
मृतक : मरने वाला अभागा 23 वर्षीय राहुल कुमार मंडल, अररिया जिले का रहने वाला था। मधेपुरा इंजीनियरिंग कॉलेज में वह पढ़ाई कर रहा था।

परिजन भी सदर अस्पताल पहुँच चुके हैं। फिलहाल घटना का क्या कारण है,इसका अभी तक कुछ भी पता नहीं चल पाया है ।वैसे दबी जुबान से कुछ लोग इस हत्याकांड को प्रेम प्रसंग का मामला बता रहे हैं ।लेकिन पुलिस के बड़े अधिकारी, अभीतक ना तो किसी नतीजे पर पहुँचे हैं और ना ही खुलकर कुछ भी बता ही रहे हैं। एसडीपीओ सदर प्रभाकर खुद मौका ए वारदात पर पहुँचकर छानबीन कर रहे हैं। उनका कहना है कि पुलिस विभिन्य विन्दुओं को संज्ञान में लेकर जांच कर रही है। जल्द ही हत्या के कारण का खुलासा भी हो जाएगा और हत्या को अंजाम देने वाले अपराधी भी पुलिस की गिरफ्त में होंगे। सबसे बड़ा सवाल यह है कि अररिया जिले का रहने वाला मृतक छात्र राहुल कुमार आखिरकार पतरघट प्रखंड के भद्दी गांव तक कैसे पहुँचा? इतना तो तय है कि अपराधियों ने बाईक अथवा बड़े वाहन से राहुल को घटनास्थल पर लाकर गोली मारकर, उसकी ईहलीला खत्म कर डाली और आरामतलबी से वहाँ से निकल पड़े।

शव को देखने के लिए आसपास के लोगों का लंबे समय तक जमावड़ा लगा रहा था लेकिन कोई भी,कुछ भी बोलने से परहेज कर रहे थे ।इस जघन्य हत्या से, आसपास के क्षेत्रों में दहशत का माहौल बना हुआ है ।लगातार बिहार के विभिन्य जिलों में आपराधिक घटनाओं में काफी ईजाफा हुआ है ।आखिर कौन सी ऐसी वजह हो गयी है कि अपराधी बेखौफ होकर नंगा नाच कर रहे हैं ।खासकर के सहरसा जिले की बात करें तो,एक महीने के भीतर गोली मार कर हत्या की यह चौथी घटना है ।सबसे पहले कुंदन सिंह,फिर राधे ठाकुर,फिर बाईट 15 मई की रात को सुनील सिंह और आज राहुल मंडल की हत्या। बाईट छः माह की बात करें,तो कई हत्याएं हुईं जिसमें सुपारी किलर ने अपने जौहर दिखाए ।बढ़ते हुए अपराध ने यह साफ और साबित कर दिया है कि सहरसा पुलिस ना केवल मूक और बधिर है बल्कि अपराधियों के सामने घुटने भी टेक चुकी है ।पिछले दरवाजे से नहीं,अब तो सामने के दरवाजे से,माल कमाई पुलिस वालों का परम धर्म बन चुका है ।इधर सहरसा की एसी पसंद पुलिस और उधर आपराधिक वारदातों को अंजाम देने में मुस्तैद अपराधी। बिहार में बहार है,नीतीशे कुमार है। एक सहरसा जिला ही बिहार सरकार के सुशासन की धज्जियां उड़ा रहा है।

सिटी पोस्ट लाइव के सीनियर एडिटर मुकेश कुमार सिंह की रिपोर्ट

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.