By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

दिल्ली में एनडीए नेताओं कि डिन्नर पार्टी में,शामिल होंगे सीएम नीतीश कुमार

Above Post Content

- sponsored -

देश में लोकसभा चुनाव सम्पन्न हो चुका है. अब 23 मई के दिन का सभी को इंतज़ार है. इस बीच कमोबेश सभी टी वी चैनलों का एग्जिट पोल भी आ चुका है. सभी टी वी चैनलों ने चुनाव के अंतिम दिन मतदान का समय खत्म होते ही अपना-अपना सर्वे दिखाया. लेकिन अब यह भी खबर है कि सभी राजनीतिक दल सरकार बनाने को लेकर जोड़ -तोड़ में लग गई है

Below Featured Image

-sponsored-

दिल्ली में एनडीए नेताओं कि डिन्नर पार्टी में शामिल होंगे सीएम नीतीश कुमार

सिटी पोस्ट लाइव- देश में लोकसभा चुनाव सम्पन्न हो चुका है. अब 23 मई के दिन का सभी को इंतज़ार है. इस बीच कमोबेश सभी टी वी चैनलों का एग्जिट पोल भी आ चुका है. सभी टी वी चैनलों ने चुनाव के अंतिम दिन मतदान का समय खत्म होते ही अपना-अपना सर्वे दिखाया. लेकिन अब यह भी खबर है कि सभी राजनीतिक दल सरकार बनाने को लेकर जोड़ -तोड़ में लग गई है. परन्तु जो सभी चैनलों के सर्वे में दिखाया गया या उनके द्वारा दावा किया गया उसके अनुसार फिर से एनडीए की सरकार बन रही है. इसी को लेकर एनडीए कि भी दिल्ली में आज बैठक हो रही है.

यह बैठक बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने चुनाव परिणाम से पहले एनडीए के घटक दलों को डिनर पर बुलाया है. बताया जा रहा है कि इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल हो सकते हैं. रामविलास पासवान, उद्धव ठाकरे समेत कई नेता इसमें शामिल हो रहे हैं. शुरू में आनाकानी के बाद अब इस बैठक में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी शामिल होने के लिए तैयार हो गए हैं. हालांकि इससे पहले राजनीतिक कयास लगाये जा रहे थें कि जेड्यू प्रमुख और बिहार के सीएम इस बैठक में शामिल नहीं होंगे.

Also Read
Inside Post 3rd Paragraph

-sponsored-

लेकिन पार्टी के सूत्रों के मुताबिक नीतीश दोपहर बाद कि फ्लाइट से दिल्ली रवाना होंगे. इस बैठक में जेडीयू की ओर से आरसीपी सिंह और केसी त्यागी भी शामिल होंगे. बताया जा रहा है कि डिनर के दौरान सहयोगियों से गठबंधन की रणनीति को लेकर भी बात की जा सकती है. बता दें कि सीएम नीतीश के करीबियों के बारे में कहा जाता है कि वे एनडीए की बैठक में तबतक शामिल नहीं होते जब तक पीएम मोदी मौजूद नहीं रहते हैं, लेकिन यह सत्य से परे है, क्योंकि जब सीटों को लेकर जेडीयू और बीजेपी में खींचतान थी तो वे रामविलास पासवान के साथ अमित शाह से ही मिले थे. इसके पहले भी वे कई बार अमित शाह से अकेले में रणनीति पर चर्चा कर चुके हैं.

लेकिन यहाँ यह बात भी गौर करनेवाली है कि नीतीश कुमार ने हाल के दिनों में बीजेपी के साथ होने के बावजूद भी वे बहुत से मुद्दों पर बयान देने से बचते रहे हैं. जैसे सीएम नीतीश कुमार ने धारा 370, 35 A,कॉमन सिविल कोड पर असहमत दिखे हैं. यहाँ तक कि जेडयू ने अपना घोषणा पत्र तक जारी नहीं किया. हाल के दिनों में तो उनके पार्टी के एमएलसी गुलाम रसूल बलियावी ने नीतीश कुमार को पीएम पद का उम्मीदवार घोषित करने की सलाह एनडीए को देते नजर आएं .अब तो जेडयू के तरफ से बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने की मांग भी उठाई जा रही है.
                                                                                                                                                    जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.