City Post Live
NEWS 24x7

मिड-डे-मिल नहीं खिलाने से स्कूली बच्चों ने मचाया बवाल,शिक्षकों पर पैर दबवाने का लगा आरोप|

School children created ruckus due to non-feeding of mid-day meal, teachers were accused of stifling their feet.

-sponsored-

- Sponsored -

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव- कटिहार के बारसोई अनुमंडल के आबदपुर थाना अंतर्गत उत्क्रमित मध्य विद्यालय बारीयौल जो की पश्चिम बंगाल के निकट है ,छात्र छात्राओं को मिड डे मिल नहीं मिलने से स्कूल प्रांगण में छात्र छात्राओं द्वारा जमकर हंगामा किया गया, छात्रों ने प्रधानाध्यापक के खिलाफ नारेबाजी भी की | इतना ही नहीं स्कूल बाउंड्री को भी तोड़ दिया। साथ ही  प्रधानाध्यापक पर उचित कार्रवाई की मांग पर छात्र छात्रा डटे रहे|

 

 

शिक्षक पढ़ाने के बजाय छात्र-छात्रा से दबवाते है पैर 

घटना की सूचना मिलते ही जिला परिषद सदस्य मोहम्मद गुलजार ने स्कूल पहुंचकर छात्र छात्राओं को समझा-बुझाकर मामले को शांत कराया। वही एक छात्रा ने बताया कि शिक्षकों द्वारा हम लोगों को मिड डे मिल नहीं दी जाती है| एक दिन देते हैं दूसरे दिन फिर बंद कर देते हैं ,यह कहां का इंसाफ है हम लोग स्कूल पढ़ने के लिए आते हैं लेकिन शिक्षक पढ़ाने के बजाय हम लोगों से अपना पैर दबवाते है इसकी जांच होनी चाहिए।वही इस संबंध में जिला परिषद सदस्य मोहम्मद गुलजार ने बताया कि छात्र-छात्राओं को मिड डे मिल क्यों नहीं मिल रही है इसमें जो भी दोषी है उस पर उचित कार्रवाई होनी चाहिए सरकार छात्र छात्राओं के पढ़ाई के साथ साथ खाने के लिए एमडीएम दे रही हैं लेकिन छात्र छात्राओं को प्रतिदिन मिड डे मिल का खाना क्यों नहीं मिल रहा है|

 

 

 छात्र-छात्रा उग्र होने का क्या कारण है

छात्र-छात्रा उग्र होने का क्या कारण है इस मामले को लेकर जिला पदाधिकारी के समक्ष पूरी बात रखी जाएगी जो भी दोषी है उस पर उचित कार्रवाई की मांग की जाएगी वही इस संबंध में शिक्षा पदाधिकारी मुमताज अहमद ने फोन पर बताया की मामले की जांच होगी दोषी पाये जायेगे उस करवाई भी होगी वही इस संबंध में प्रधानाध्यापक गोपेन चंद्र राय ने बताया की जितने भी आरोप लगाए हैं वह बेबुनियाद है।

 

- Sponsored -

-sponsored-

Subscribe to our newsletter
Sign up here to get the latest news, updates and special offers delivered directly to your inbox.
You can unsubscribe at any time

-sponsored-

Comments are closed.