By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

जहरीली शराब के मामलों में दोषी अफसरों पर भी हो सख्त कार्रवाई: मायावती

;

- sponsored -

बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो व पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने प्रदेश में जहरीली शराब से मौतों पर चिन्ता जताते हुए समस्या के समाधान के लिए दोषी अफसरों पर भी सख्त कार्रवाई की मांग की है। 

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव, लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो व पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने प्रदेश में जहरीली शराब से मौतों पर चिन्ता जताते हुए समस्या के समाधान के लिए दोषी अफसरों पर भी सख्त कार्रवाई की मांग की है।  मायावती ने मंगलवार को कहा कि उत्तर प्रदेश में जहरीली शराब पीने से गरीबों की मौत व परिवारों के उजड़ने की घटनाएं लगातार हो रही हैं, जो अति-दुःखद है। उन्होंने कहा कि प्रयागराज की ताजा घटना में भी अनेक लोगों की मौत के बाद सरकारी कार्रवाई उचित है। लेकिन इस समस्या के समाधान के लिए दोषी अफसरों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई होनी बहुत जरूरी है। प्रदेश में पिछले कुछ समय से अवैध, जहरीली शराब के कारण मौतों के मामले सामने आए हैं। वहीं प्रयागराज के फूलपुर में हाल ही में हुई मौतों को लेकर विपक्ष सरकार को घेरने में जुटा है। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आरोप लगाया है कि अवैध शराब का कारोबार सत्ता के संरक्षण में दोगुनी रफ्तार से चल रहा है।
शराब माफिया के हौसले इतने बढ़े हुए हैं कि वे सरकारी कायदे कानून को ठेंगा दिखाते हुए तस्करी व अवैध शराब की बिक्री खुलेआम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस व आबकारी विभाग की जानकारी में ही अवैध ढंग से शराब की तस्करी, जहरीली शराब बनाने और बेचने का काम हो रहा है। वहीं कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव व उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा सवाल कर चुकी हैं कि आखिर क्या कारण है कि कुछ दिखावटी कदमों की बजाय सरकार जहरीली शराब के माफिया पर कार्रवाई करने में नाकाम रही है? कौन जिम्मेदार है? राज्य के अपर मुख्य सचिव आबकारी संजय आर. भूसरेड्डी के मुताबिक प्रदेश में विगत वर्षों में अवैध शराब के सेवन से मौतों को देखते हुए वर्ष 2018 में आबकारी अधिनियम में संशोधन करते हुए धारा 60-क को जोड़ा गया, जिसमें जहरीली शराब के निर्माण एवं बिक्री करने या करवाने वाले ऐसे व्यक्ति जिसके ऐसा करने से पीने वाले की मृत्यु होती है, उस पर मृत्युदण्ड दिये जाने के प्रावधान किये गये हैं। इसके साथ ही राज्य में अवैध शराब के निर्माण, बिक्री एवं तस्करी की रोकथाम के लिए 18 नवम्बर से 02 दिसम्बर तक विशेष अभियान चलाया जा रहा है। इसमें अभी तक प्रदेश में कुल 18,286.40 लीटर अवैध शराब बरामद की गई तथा शराब निर्माण में प्रयुक्त होने वाले 1,52,575.00  किलोग्राम लहन को मौके पर नष्ट किया गया। वहीं अवैध शराब के कार्य में संलिप्त 283 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है।
;

-sponsored-

Comments are closed.