By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

गया में75लाख के इनामी भाकपा माओवादी के शीर्ष नेताओं में से एक संदीप यादव (55) की संदिग्ध मौत|

Suspicious death of one of the top leaders of CPI-Maoist, Sandeep Yadav (55), rewarded 75 lakh in Gaya.

HTML Code here
;

- sponsored -

एसएसपी हरप्रीत कौर का कहना है कि संदीप यादव की मौत की सूचना मिली है, लेकिन मृतक संदीप यादव ही है या फिर कोई और इस बात की पुष्टि अभी नहीं की जा सकती है।

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव –      गया में 75 लाख के इनामी भाकपा माओवादी के शीर्ष नेताओं में से एक संदीप यादव (55) की संदिग्ध मौत हो गई है। संदीप पर 75 लाख था इनाम बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़, ओडिशा और आंध्र प्रदेश में उसकी दहशत थी। गया में 4 लोगों को फांसी देने के बाद वो हिट लिस्ट में था।

 

 

पुष्टि अभी नहीं की जा सकती है

एसएसपी हरप्रीत कौर का कहना है कि संदीप यादव की मौत की सूचना मिली है, लेकिन मृतक संदीप यादव ही है या फिर कोई और इस बात की पुष्टि अभी नहीं की जा सकती है। पुलिस की टीम मौके पर पहुंची है। उनके द्वारा कंफर्म किए जाने के बाद ही उसकी मौत की पुष्टि की जाएगी।संदीप यादव पर 500 केस दर्ज थे। CRPF के सूत्रों से स्पष्ट कर दिया है कि संदीप यादव की मौत हो चुकी है। उसका कहना है कि बीते दिनों हुए बम ब्लास्ट में घायल हो गया था। उसके बाद से वह काफी डरा हुआ था। उसकी मौत हार्ट अटैक से हुई है। हालांकि, देर रात पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया था।

 

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

वारदात को अंजाम दिया।

बता दें कि संदीप यादव मूल रूप से जिले के बांकेबाजार प्रखंड के बाबू राम डीह गांव का रहने वाला था। वह कम उम्र से ही नक्सली संगठन से जुड़ गया था। जुड़ने के बाद उसने भाकपा माओवादी के बैनर तले एक से बढ़ कर एक दिल दहला देने वाली नक्सली वारदात को अंजाम दिया। वह अक्सर सीआरपीएफ और पुलिस बल पर ही हमला बोला करता था। उसके हमले में कई पुलिस वालों की जान जा चुकी थी। सूत्रों का कहना है कि संदीप यादव की बॉडी जंगल में पड़ी हुई थी। शव के आसपास और दूर-दूर तक कोई भी व्यक्ति नहीं था। उसकी बॉडी पर जंगल में पत्ता चुनने वालों की नजर पड़ी तो वे उसे पहचान गए। वही संदीप की बॉडी को अपने साथ लेकर उसके घर वालों को देर शाम सौंप दिया

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.