By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

बिहार से यूपी की सियासत साधने में जुटी कांग्रेस, पार्टी के दांव से अंदरखाने में नाराजगी

;

- sponsored -

चुनाव बिहार में हो रहा है लेकिन कांग्रेस की नजर यूपी पर बनी हुई है। कांग्रेस ने बिहार में जो दांव चला है उसका लाभ पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश के अगले चुनाव में मिल सकता है। कांग्रेस के इस दांव में रिस्क तो है लेकिन फायदे की भी काफी उम्मीद है।कांग्रेस के कुछ फैसले से पार्टी का एक बड़ा धड़ा नाराज दिख रहा है।

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव : चुनाव बिहार में हो रहा है लेकिन कांग्रेस की नजर यूपी पर बनी हुई है। कांग्रेस ने बिहार में जो दांव चला है उसका लाभ पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश के अगले चुनाव में मिल सकता है। कांग्रेस के इस दांव में रिस्क तो है लेकिन फायदे की भी काफी उम्मीद है।कांग्रेस के कुछ फैसले से पार्टी का एक बड़ा धड़ा नाराज दिख रहा है।

सभी पार्टियों की तरह कांग्रेस ने जातीय समीकरणों में तालमेल बनाते हुए अपने उम्मीदवार घोषित किए हैं, पर इसके साथ पार्टी ने अपने परंपरागत वोटबैंक को फिर से हासिल करने के लिए जोखिम भी उठाया है। पार्टी अपनी परंपरागत वोट बैंक को मजबूत करना चाहती है। एक तरह से देखा जाए तो भले ही अभी बिहार में चुनाव हो रहे हैं, मगर कांग्रेस की नजर बिहार के साथ-साथ उत्तर प्रदेश पर भी है।

बिहार विधानसभा चुनाव में आरजेडी की अगुवाई वाले महागठबंधन में कांग्रेस के हिस्से 70 सीटें आईं हैं। इस तरह से कांग्रेस 70 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। इन सभी सीटों पर कांग्रेस ने अपने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। टिकट बंटवारे को देखें तो पार्टी ने सबसे ज्यादा टिकट सवर्ण, उसके बाद दलित और तीसरे नंबर पर मुस्लिम को दिया है। सवर्णों में पार्टी ने 9 ब्राह्मण उम्मीदवार बनाए हैं। जबकि अनुसूचित जाति से 14 और 12 मुस्लिम उम्मीदवार हैं। ब्राह्मण, दलित और मुस्लिम कांग्रेस को परंपरागत वोट रहा है। चुनाव में पार्टी इन मतदाताओं पर फोकस करेगी।

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

कांग्रेस ने जिस तरह से बिहार में जातीय समीकरणों और अपने परंपरागत वोट बैंक को हासिल करने के उद्देश्य से उम्मीदवार उतारे हैं, उससे लगता है कि पार्टी अब फ्रंट पर खेलना चाहती है। 12 मुस्लिम और 14 दलित उम्मीदवारों को टिकट देकर कांग्रेस ने अपने इरादे साफ कर दिए हैं कि उसकी नजर अब बिहार के साथ-साथ यूपी पर भी है।

दरअसल कांग्रेस बिहार चुनाव के साथ यूपी में भी राजनीतिक संदेश देना चाहती है। जाले विधानसभा सीट से मशकूर अहमद उस्मानी को टिकट देना इसी रणनीति का हिस्सा है। बिहार में उस्मानी को टिकट और यूपी में डॉ कफील खान की रिहाई के लिए मुहिम से साफ है कि पार्टी अब फ्रंट पर खेलना चाहती है, ताकि मुस्लिम मतदाताओं को फिर से भरोसा जीता जा सके।

हाथरस मामले में कांग्रेस का अक्रामक रुख रणनीति का हिस्सा है। पार्टी को इस पूरी मुहिम का राजनीतिक लाभ मिलता या नहीं, यह तो वक्त तय करेगा। पर पार्टी यह संदेश देने में सफल रही है कि वह दलितों के मुद्दों को लेकर अक्रामक है। जबकि ऐसे मामलों में बीएसपी का रुख बहुत अक्रामक नहीं रहा है। समाजवादी पार्टी के हमलों में पहले जैसी धार नहीं थी।

कांग्रेस के अंदर एक बड़ा तबका मौजूदा राजनीतिक हालात में इस तरह के जोखिम लेने के खिलाफ है। पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि बिहार में मशकूर अहमद उस्मानी को टिकट देकर बीजेपी को मुद्दा दे दिया है। अभी तक प्रचार में स्थानीय मुद्दे हावी थे, पर अब जिन्ना की एंट्री हो गई है। इन नेताओं का मानना है कि पार्टी को इस तरह के निर्णय से परहेज करना चाहिए था।

;

-sponsored-

Comments are closed.