By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

जापानी इंसेफ्लाइटिस के 11 मरीज मिले, दो मरीज रिम्स में एडमिट

;

- sponsored -

मुजफ्फरपुर में एक्यूट इंसेफ्लाइटिस सिंड्राेम (चमकी बुखार) से बच्चाें की माैत हाे रही है ताे झारखंड में जापानी इंसेफ्लाइटिस ने पैर पसारना शुरू कर दिया है। राज्य में जापानी इंसेफ्लाइटिस के 11 मरीज मिले हैं।

-sponsored-

-sponsored-

जापानी इंसेफ्लाइटिस के 11 मरीज मिले, दो मरीज रिम्स में एडमिट

सिटी पोस्ट लाइव, रांची: मुजफ्फरपुर में एक्यूट इंसेफ्लाइटिस सिंड्राेम (चमकी बुखार) से बच्चाें की माैत हाे रही है ताे झारखंड में जापानी इंसेफ्लाइटिस ने पैर पसारना शुरू कर दिया है। राज्य में जापानी इंसेफ्लाइटिस के 11 मरीज मिले हैं। दाे मरीज रिम्स में भर्ती हैं। इसे देखते हुए राज्य में हाईअलर्ट जारी कर दिया गया है।

जनवरी से अब तक 305 संदिग्ध मरीजों की जांच
स्वास्थ्य सचिव नितिन मदन कुलकर्णी ने सभी सिविल सर्जनाें, रिम्स निदेशक, पीएचसीएच धनबाद व एमजीएम जमशेदपुर के अफसराें काे निर्देश जारी किया है। कहा है कि जनवरी से अब तक 305 संदिग्ध मरीजाें की जांच की गई है। इनमें से 11 मरीज जापानी इंसेफ्लाइटिस के मिले हैं। एेसे संदिग्ध मरीजाें की जांच अाैर इलाज की समुचित व्यवस्था करें। सभी जिला अस्पताल, सीएचसी व पीएचसी के डाॅक्टर एेसे मरीजाें का सैंपल जांच के लिए रिम्स, एमजीएम या पीएमसीएच भेज सकते हैं।

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

डाॅक्टराें का दावा
यह बिहार के चमकी बुखार से अलग रिम्स के शिशु राेग विभाग के अध्यक्ष डाॅ. एके चाैधरी ने कहा कि बिहार का चमकी बुखार टिपिकल एक्यूट इंसेफ्लाइटिस सिंड्राेम है। जबकि झारखंड में नाॅर्मल वायरल जापानी इंसेफ्लाइटिस केस हैं, जाे ठीक हाेते हैं।

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.