By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

मजदूरी कर लौट रहे झारखण्ड के 175 मजदूरों को जौनपुर में बन्धक बनाया गया

Above Post Content

- sponsored -

पलामू जिला अंतर्गत हुसैनाबाद अनुमंडल के 175 की संख्या में उतर प्रदेश के अयोध्या के टंडवा बस्ती स्थित एनटीपीसी में कार्य कर रहे मजदूरों को ठेकेदार ने यह कहकर भगा दिया की उन्हें अभी कोई आवश्यकता नहीं है।

Below Featured Image

-sponsored-

मजदूरी कर लौट रहे झारखण्ड के 175 मजदूरों को जौनपुर में बन्धक बनाया गया

सिटी पोस्ट लाइव, मेदिनीनगर: पलामू जिला अंतर्गत हुसैनाबाद अनुमंडल के 175 की संख्या में उतर प्रदेश के अयोध्या के टंडवा बस्ती स्थित एनटीपीसी में कार्य कर रहे मजदूरों को ठेकेदार ने यह कहकर भगा दिया की उन्हें अभी कोई आवश्यकता नहीं है। वह अपने-अपने घर जा सकते हैं।  सभी मजदूर दो बस को बुक कर झारखण्ड के लिए रवाना हुए। जिसे जॉनपुर के सिधवा बस्ती के समीप पुलिस ने रोककर दो दिनों से बंधक बनाया हुआ है। बंधक बने सभी मजदूर हुसैनाबाद, हैदरनगर, मोहम्मदगंज, उंटारी रोड के अलावा गढ़वा जिला के मझिआंव क्षेत्र के बतायें गये हैं। बंधक बने मजदूर हुसैनाबाद अनुमंडल के मोहम्मदगंज प्रखंड अंतर्गत गोराडीह गांव निवासी पंकज गुप्ता ने गांव में मुखिया पंचम खां को अपनी स्थिति से अवगत कराया। मजदूर पंकज ने रो-रो कर अपना दुखड़ा सुनाने लगा। उन्होंने कहा कि सभी मजदूर पलामू जिला के हुसैनाबाद अनुमंडल क्षेत्र हरिहरगंज, छतरपुर के अलावा गढ़वा जिला के मझिआंव, कांडी के हैं। जिसे उतर प्रदेश के जॉनपुर जिला की पुलिस ने हम दोनों बस के साथ अपने घर लौट रहे मजदूरों को जबरजस्ती रोककर बंधक बना लिया है। मजदूर पंकज ने कहा कि दो दिनों से उन्हें खाना भी नहीं नसीब हुआ है। पुलिस ने भी खाने के लिये हमलोगों को किसी भी तरह को कोई व्यवस्था नहीं दी है। सभी बंधक बने मजदूर में मुख्य रुप से जपला निवासी अरुण कुमार सिंह, उंटारी रोड निवासी श्यामराज कुमार राजवंशी, मोती राम, रंजीत कुमार, गढ़वा जिला के मझिआंव निवासी धर्मजीत राम, अक्षय कुमार, चंदन कुमार, छोटन कुमार आदि ने बताया कि उतरप्रदेश की पुलिस ने हम लोगों के साथ काफी जादती कर रही है। मजदूरों ने यह भी कहा कि हमसभी 175 मजदूर दानें-दानें को तरस रहें है। होटल भी बंद है। आखिर हमलोग जाएं तो जायें कहाँ। सभी मजदूर हिन्दुस्थान संमाचार के माध्यम से राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेने से हमसभी मजदूरों को अपने घर पहुंचवाने में पूर्ण सहयोग करने की अपील की है। इधर गोराडीह पंचायत के मुखिया पंचम खां ने बताया कि 175 मजदूरों में एक दर्जन मजदूर गोराडीह सहित मोहम्मदगंज प्रखंड के हैं। जबकि देश कई मजदूर हैदरनगर प्रखंड के ग्रामीण क्षेत्र के बतायें गयें है। जिसे मुख्यमंत्री हेमंत सोरेने उन्हें वहां से छोड़ाकर मजदूरों के घर भेजने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कि झारखंड के मजदूर पहले से ही पलायन होकर दूसरे राज्य में जाकर मजदूरी कर अपना भ्रण -पोषण करते हैं।

 

Also Read

-sponsored-

Below Post Content Slide 4

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.