By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

मालगाड़ी बेपटरी होने के बाद रेल ट्रैक की मरम्मत का काम युद्ध स्तर पर, यातायात ठप

;

- sponsored -

हावड़ा दिल्ली मेन लाइन के आसनसोल रेलवे मंडल अन्तर्गत जामताड़ा विद्धाषागर स्टेशनों के बीच कसियाटॉंड़ ब्लॉक हॉल्ट पर शनिवार शाम मालगाड़ी के दुर्घटनाग्रस्त होने के 15 घंटे बाद भी यहां ट्रेनों का परिचालन प्रारंभ नहीं हो पाया है।

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

मालगाड़ी बेपटरी होने के बाद रेल ट्रैक की मरम्मत का काम युद्ध स्तर पर, यातायात ठप
सिटी पोस्ट लाइव, जामताड़ा: हावड़ा दिल्ली मेन लाइन के आसनसोल रेलवे मंडल अन्तर्गत जामताड़ा विद्धाषागर स्टेशनों के बीच कसियाटॉंड़ ब्लॉक हॉल्ट पर शनिवार शाम मालगाड़ी के दुर्घटनाग्रस्त होने के 15 घंटे बाद भी यहां ट्रेनों का परिचालन प्रारंभ नहीं हो पाया है। रविवार को परिचालन को प्रारंभ करने एवं लगभग दो सौ फीट डाउन रेलवे लाइन में नये रेल पटरियों को बिछाने एवं दुर्घटनाग्रस्त मालगाड़ी के डिब्बे को हटाने का काम प्रगति पर है। आसनसोल डीआरएम सुमित सरकार टेक्निकल टीम के साथ खुद मरम्मत कार्य का नेतृत्व कर रहे हैं। आसनसोल जमालपुर एवं दानापुर रेल मंडल की टेक्निकल टीम एवं संबंधित विभाग के अभियंताओं की टीम द्वारा क्रेन के माध्यम से क्षतिग्रस्त वैगन हटाए जा रहे हैं। डाउन रेलवे लाइन में क्षतिग्रस्त दो सौ मीटर से ज्यादा रेल पटरी को हटाकर नया पटरी बिछाने का कार्य युद्ध स्तर जारी है। आसनसोल रेल मंडल के डीआरएम सुमित सरकार ने दुर्घटना के कारणों पर बातचीत के दौरान ‘हिन्दुस्थान समाचार’ को बताया कि मालगाड़ी के परिचालन के समय खुला डिब्बा होने के कारण एवं कसियाटॉड़ ब्लॉक हाल्ट पर ट्रेन पार करने के समय प्लेटफार्म से सटे होने के कारण खुले डिब्बे की चादर एक एक कर प्लेटफार्म से टकरायी, जिसके कारण ट्रेन असंतुलित हो गयी। नतीजतन, मालगाड़ी के 17 डिब्बे असंतुलित होकर बेपटरी हो गये। घटना की असलियत जानने के लिए नार्मल इंटरनल जॉच कमेटी गठित की जाएगी। डाउन रेलवे लाइन पर दोपहर 12 बजे तक ट्रेनों का परिचालन प्रारंभ करने एवं अप रेलवे लाइन को प्रातः दस बजे प्रारंभ करने की बात कही गई।  हालांकि दुर्घटना स्थल पर जो दृश्य दिख रहा है, उसके मुताबिक अभी भी रेलवे लाइन में सुचारू ढंग से परिचालन प्रारंभ करने में कई घंटे लग सकते हैं। इस रूट की सभी ट्रेनों का परिचालन पूर्ण रूप से बंद है। यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।
;

-sponsored-

Comments are closed.