By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

घंटों इंतजार के बाद भी नहीं मिला शव वाहन, कंधे पर उठाकर मृत बहन को ले गया भाई

;

- sponsored -

बिहार के गया से एक शर्मनाक करने वाली तस्वीर सामने आई है. अनुग्रह नारायण मेडिकल कॉलेज में एक भाई अपनी बहन के शव को ले जाने के लिए घंटों शव वाहन उपलब्ध कराने की मशक्कत करता रहा, लेकिन किसी ने उसकी एक न सुनी.

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

घंटों इंतजार के बाद भी नहीं मिला शव वाहन, कंधे पर उठाकर मृत बहन को ले गया भाई

सिटी पोस्ट लाइव : बिहार के गया से एक शर्मनाक करने वाली तस्वीर सामने आई है. अनुग्रह नारायण मेडिकल कॉलेज में एक भाई अपनी बहन के शव को ले जाने के लिए घंटों शव वाहन उपलब्ध कराने की मशक्कत करता रहा, लेकिन किसी ने उसकी एक न सुनी. हद तो तब हो गई जब युवक को अस्पताल के वार्ड से शव को बाहर ले जाने के लिए स्ट्रेचर तक नहीं दिया गया.

आपको बता दे की नतीजन युवक अपनी बहन का शव कंधे पर लेकर अस्पताल के बाहर लगे एंबुलेंस तक गया. युवक ने बताया कि वो अपनी बहन की मौत के सात घंटे बाद तक शव वाहन के इंतजाम में लगा रहा लेकिन किसी ने उसकी एक न सुनी. बता दे की उसे शव को ले जाने के लिए वाहन तो दूर अस्पताल से बाहर निकालने के लिए एक स्ट्रेचर तक नहीं मिला.बाद में थक हार कर वो अपनी बहन का शव गोद में लेकर बाहर निकला और निजी एबुंलेंस से घर ले जा सका.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

खबर के अनुसार गया के डुमरिया के पथरा गांव की 21 बर्षीय हेमवती कुमारी की मौत बुधवार की सुबह 10 बजे इलाज के दौरान हो गई थी. बहन की मौत के बाद मृतक के भाई राहुल ने शव को घर तक पहुंचाने के लिए अस्पताल प्रशासन से शव वाहन की मांग की, लेकिन उसे शाम 5 बजे शाम तक वाहन नहीं मिल पाया. इस बीच उसने अस्पताल अधीक्षक से मिले 102 नबंर को भी डायल किया, और शव वाहन के ड्राइवर से भी मिला लेकिन शव वाहन का ड्राइवर नशे में धुत मिला और उसने खुद को बीमार और डुमरिया को नक्सल प्रभावित क्षेत्र बताकर शव ले जाने से साफ तौर पर मना कर दिया.

चौंकानेवाली बात ये हैं शव वाहन के ड्राइवर के नशे में होने की सूचना जब अस्पताल अधीक्षक को दी गयी, तो उन्होंने एबुलेंस की निगरानी करने वाले जिले के एसएमओ को सूचना देकर अपना पल्ला झाड़ लिया. जब मीडियाकर्मियों ने उनसे इस संबंध में सवाल किया तो उन्होंने एबुलेंस और शव वाहन की देखरेख सिविल सर्जन कार्यालय से होने की बात कही. मानवता को शर्मसर करने वाली इस घोर लापरवाही की सूचना मिलने के बाद डीएम ने अस्पताल अधीक्षक को पूरे मामले से अवगत कराते हुए दोषियों के खिलाफ जल्द से जल्द कार्रवाईकरने का निर्देश दिया है.

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.