By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

मधुबनी : कोविड-19 के मरीजों को परामर्श देने के लिए जिले में नियंत्रण कक्ष की होगी स्थापना

2000 प्रतिदिन मानदेय पर रखे जाएंगे निजी चिकित्सक

;

- sponsored -

कोरोना माहमारी के इस दौर भी सरकार को लोगों को बेहतर से बेहतर स्वास्थ सेवा सुविधा उपलब्ध कराने को लेकर पूरी तरह सजग एवं कटिबद्ध है एवं लोगों को किसी प्रकार की परेशानियाँ नहीं हो इसके लिए हर संभव प्रयास भी कर रही है.

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव : कोरोना माहमारी के इस दौर भी सरकार को लोगों को बेहतर से बेहतर स्वास्थ सेवा सुविधा उपलब्ध कराने को लेकर पूरी तरह सजग एवं कटिबद्ध है एवं लोगों को किसी प्रकार की परेशानियाँ नहीं हो इसके लिए हर संभव प्रयास भी कर रही है. इसी कड़ी में स्वास्थ्य विभाग ने कोविड-19 के मरीज को परामर्श देने के लिए एक चिकित्सक नियंत्रण कक्ष खोलने को लेकर राज्य स्वास्थ समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने सिविल सर्जन को पत्र भेजकर कर इसे सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया है, ताकि मरीजों को उचित परामर्श मिल सके। नियंत्रण कक्ष में निजी चिकित्सक रखे जाएंगे, जिन्हें प्रतिदिन 2000 रूपये मानदेय के आधार पर भुगतान किया जाएगा। बीमार व्यक्ति को तुरंत चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराई जायेगी। कोरोना वायरस इंसानो के सम्पर्क में आने पर अत्यंत तेजी से फैलता है। इसलिए स्थिति की गंभीरता को देखते हुए डॉक्टरो एवं मेडिकल स्टाफ्स् की टीम तैनात किये जायंगे.

दूरभाष पर किसी व्यक्ति के बीमार होने की सूचना मिलते ही चिकित्सकों द्वारा उन्हें तुरंत चिकित्सीय परामर्श उपलब्ध कराया जायेगा। अगर बीमार व्यक्ति की स्थिति गंभीर होगी तो चिकित्सा कक्ष में प्रतिनियुक्त चिकित्सक/कर्मी द्वारा नजदीकी सरकारी अस्पताल के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी के माध्यम से बीमार व्यक्ति को चिकित्सीय सुविधाएँ उपलब्ध कराया जायेगा। जिला नियंत्रण कक्ष/दूरभाष नम्बर पर आने वाले सभी सूचनाओं का वरीय अधिकारी द्वारा अनुश्रवण किया जाएगा। वहीं अगर किसी व्यक्ति को कोराना के लक्षण जैसे सर्दी, सुखी खाँसी, तेज बुखार एवं साँस लेने में तकलीफ होने की शिकायतें कर सकते हैं.

24/7 चिकित्सकों की होगी प्रतिनियुक्ति:

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

चिकित्सकीय नियंत्रण कक्ष में चिकित्सकों के अलावा पर्याप्त संख्या में तीनों पाली में 24/7 चिकित्सा कर्मियों की प्रतिनियुक्ति की जाएगी. साथ ही चिकित्सीय नियंत्रण कक्ष के माध्यम से जिला स्तर पर कोविड-19 का आकलन कर पर्याप्त संख्या में एंबुलेंस एवं प्रतिरक्षक सामग्री पी. पी. ई. कीट तथा अन्य आवश्यक उपकरण रखा जाएगा। नियंत्रण कक्ष में प्रभारी पदाधिकारी के रूप में किसी वरीय प्रशासनिक पदाधिकारी को नामित किया जाएगा।

102 के अंतर्गत संचालित एंबुलेंस उपलब्ध नहीं होने पर ले सकेंगे निजी एंबुलेंस:

सदर अस्पताल द्वारा संचालित 102 एंबुलेंस आवश्यक संख्या में उपलब्ध नहीं होने की स्थिति में राज्य स्वास्थ समिति द्वारा निर्धारित प्रतिदिन भाड़े पर एंबुलेंस रखा जाएगा।उच्च जोखिम युक्त व्यक्तियों गर्भवती महिलाओं एवं गंभीर रोगों से ग्रसित व्यक्ति को कोविड-19 कराने के लिए चिकित्सीय नियंत्रण कक्ष के माध्यम से एंबुलेंस की सेवा उपलब्ध कराई जाएगी। मरीज के पॉजिटिव पाए जाने पर आवश्यकता अनुसार उन्हें एंबुलेंस के माध्यम से निर्धारित चिकित्सा केंद्रों पर भर्ती कराया जाएगा।

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.