By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

बेगूसराय : बरौनी थर्मल द्वारा 496 एकड़ जमीन अधिग्रहण के खिलाफ किसानों का उग्र प्रदर्शन

Above Post Content

- sponsored -

बेगूसराय में बरौनी थर्मल के द्वारा किसानों के 496 एकड़ उपजाऊ जमीन को जबरन अधिग्रहण करने का विरोध किसानों ने किया है. एनटीपीसी के द्वारा जमीन की घेराबंदी करने के दौरान किसानों ने काम को बंद करा दिया था और आज जमीन पर सैकड़ों किसानों ने एनटीपीसी और बिहार सरकार के खिलाफ नारेबाजी की और विरोध प्रदर्शन करते हुए धरना दिया.

Below Featured Image

-sponsored-

बेगूसराय : बरौनी थर्मल द्वारा 496 एकड़ जमीन अधिग्रहण के खिलाफ किसानों का उग्र प्रदर्शन

सिटी पोस्ट लाइव : बेगूसराय में बरौनी थर्मल के द्वारा किसानों के 496 एकड़ उपजाऊ जमीन को जबरन अधिग्रहण करने का विरोध किसानों ने किया है। एनटीपीसी के द्वारा जमीन की घेराबंदी करने के दौरान किसानों ने काम को बंद करा दिया था और आज जमीन पर सैकड़ों किसानों ने एनटीपीसी और बिहार सरकार के खिलाफ नारेबाजी की और विरोध प्रदर्शन करते हुए धरना दिया. धरना में कांग्रेस विधायक रामदेव राय समेत काफी संख्या में किसान शामिल हुए. किसानों ने कहा कि वह जान देंगे लेकिन यह उपजाऊ जमीन किसी कीमत पर सरकार को नहीं देंगे.

दरअसल किसान बिहार सरकार और एनटीपीसी से इस बात से नाराज हैं कि बरौनी थर्मल के छाई डंपिंग के लिए थर्मल से 4 किलोमीटर दूर कसहा दियारा में रामदीरी, जगतपुरा सीतारामपुर समेत कई गांवों के सैकड़ों किसानों का उपजाऊ जमीन को जबरन अधिग्रहण कर लिया गया. इतना ही नहीं सरकार फिलवक्त 496 एकड़ जमीन को अधिग्रहण कर घेराबंदी शुरू किया जिसको किसानों ने फिलहाल रोक दिया. 496 एकड़ में से 290 एकड़ जमीन सरकार गैरमजरूआ बताते हुए अधिग्रहण किया है और 206 एकड़ जमीन किसानों के होने की बात कही है.

Also Read
Inside Post 3rd Paragraph

-sponsored-

लेकिन इसके बावजूद भी किसानों को ना तो इसकी सूचना दी गई ना ही कोई मुआवजा. जबकि किसानों का दावा है कि यह सारी जमीन उपजाऊ है और किसान 1908 से 2011 तक रसीद कटाई है रजिस्टर दो में भी किसानों का नाम दर्ज है लेकिन सरकार ने 2011 से रसीद काटना बंद कर दिया. किसानों ने बताया कि केंद्र सरकार ने दो बार गेल पाइप, रिफाइनरी के लिए पाइप लाइन में इसी जगह जमीन अधिग्रहण करने पर मुआवजा दिया था लेकिन बिहार सरकार मानने को तैयार नहीं है. किसानों ने कहा कि थर्मल के पास 896 एकड़ बजंर जमीन है, जिसे किसान थर्मल को देने के लिए तैयार हैं. लेकिन सरकार की क्या मंशा है कि थर्मल से 4 किलोमीटर दूर किसानों की उपजाऊ जमीन जबरन कब्जा कर रही है.  किसानों ने कहा कि वे अपनी जान देगें लेकिन किसी किमत पर जमीन सरकार को नहीं देंगे.

इसे लेकर आज सैकड़ों की संख्या में किसानों ने जमीन के पास संवेदक के कार्यस्थल पर धरना दिया. किसान खेत में प्रदर्शन कर थर्मल और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की. इस धरना प्रदर्शन में कांग्रेस विधायक रामदेव राय और स्थानीय किसान सह कांग्रेस के पूर्व जिला अध्यक्ष अभय कुमार सिंह सारजन  ने भी हिस्सा लिया. विधायक रामदेव राय ने कहा कि वह किसानों के साथ है सरकार किसानों के साथ अन्याय कर रही है वह जिला प्रशासन से लेकर फरवरी माह में विधानसभा सत्र में इस सवाल को ना सिर्फ उठाएंगे बल्कि सड़क से लेकर सदन तक इस लड़ाई को लड़ेंगे. कांग्रेस नेता सारजन सिंह ने कहा कि वह महात्मा गांधी के रास्ते आंदोलन करेंगे तो भगत सिंह के तर्ज पर  भी आंदोलन करने से नहीं हिचकेंगे. किसानों के लिए हक के लिए लड़ाई लड़ेंगे और किसानों को जमीन वापस दिलाकर रहेंगे.

बेगूसराय से सुमित कुमार की रिपोर्ट 

Below Post Content Slide 4

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.