By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

फते बहादुर सिंह ने कहा,बहुजन समाज का अल्पसंख्यको ने हमेशा से हितैषी का काम किया है

;

- sponsored -

2014 लोकसभा चुनाव में काराकाट सांसद पूर्व केंद्रीय राज्यमंत्री सह रालोसपा सुप्रीमो उपेंद्र कुशवाहा के संकट मोचक रहे फते बहादुर सिंह ने आज डेहरी विधानसभा उपचुनाव में महागठबंधन समर्थित राजद प्रत्याशी फिरोज हुसैन के समर्थन प्रचार किया | उन्होंने कहा कि अंबेडकरवादी एवं समाजवादी विचारधारा वाले लोगों से मैं आग्रह करना चाहता हूं कि बहुजन समाज का अल्पसंख्यको ने हमेशा से हितैषी का काम किया है|

-sponsored-

-sponsored-

फते बहादुर सिंह ने कहा,बहुजन समाज का अल्पसंख्यको ने हमेशा से हितैषी का काम किया है

सिटी पोस्ट लाइव- 2014 लोकसभा चुनाव में काराकाट सांसद पूर्व केंद्रीय राज्यमंत्री सह रालोसपा सुप्रीमो उपेंद्र कुशवाहा के संकट मोचक रहे फते बहादुर सिंह ने आज डेहरी विधानसभा उपचुनाव में महागठबंधन समर्थित राजद प्रत्याशी फिरोज हुसैन के समर्थन प्रचार किया | उन्होंने कहा कि अंबेडकरवादी एवं समाजवादी विचारधारा वाले लोगों से मैं आग्रह करना चाहता हूं कि बहुजन समाज का अल्पसंख्यको ने हमेशा से हितैषी का काम किया है| जिसका प्रमाण है कि बाबा साहेब अंबेडकर को जब हरवा दिया गया था तब पश्चिम बंगाल के मुसलमानों ने ही उन्हें जीता कर संसद में भेजने का काम किया था ।

आगे उन्होंने कहा कि 1990 में जो हम लोगों के लिए मंडल आयोग लागू हुआ था उसका भी विरोध अल्पसंख्यकों ने नहीं किया था विरोध करने वालो में मनुवादी एवं सामंतवादी विचार धारा वाले लोग थे।जो आज डेहरी विधान सभा के उमीदवार के लिये भ्रम फैलाया रहै है कि हमारा दुश्मन मुसलमान हैं। लेकिन ऐसा नही है ।मैं सभी समाजवादियों को बताना चाहता हूं कि बहुजन समाज का मुसलमान हमेशा से हितैषी रहा है बहुजन समाज के लोगों का मुसलमानों के लिये कर्ज चुकाने का समय आ गया है |हम सभी बहुजन समाज के लोग एक होकर महागठबंधन समर्थित राजद प्रत्याशी फिरोज हुसैन को जिताने का काम करें। जो हमारे एकजुटता और भाईचारे का प्रतीक होगा।

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

बताते चलें कि 2014 लोकसभा चुनाव में उपेंद्र कुशवाहा को काराकाट लोकसभा में कुशवाहा समाज के बीच पहचान दिला कर चुनाव जिताने का काम किया था | कभी उपेंद्र कुशवाहा के खासम खास रहे फते बहादुर सिंह को 2015 के विधानसभा चुनाव में डेहरी विधानसभा सीट से टिकट नहीं मिलने से उपेंद्र कुशवाहा से और उनकी पार्टी से अपना दामन छुड़ा लिया था। लेकिन बाद में फतेह बहादुर सिंह ने राजद का दामन थाम राजद के प्रदेश महासचिव का पद ग्रहण कर लिया था ,लेकिन 2019 लोकसभा चुनाव के पहले राजनीतिक समीकरण ऐसी बनी की उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी महागठबंधन का एक हिस्सा हो गया |

रोहतास से विकाश ”चन्दन” की रिपोर्ट

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.