By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

विस चुनाव के पहले मंत्री सीपी सिंह के खिलाफ मोर्चाबंदी

पार्टी नेताओं ने ही सीपी सिंह के खिलाफ खोला मोर्चा

- sponsored -

झारखंड विधानसभा का चुनाव आगामी नवंबर-दिसंबर महीने में संभावित है। सभी राजनीतिक पार्टियां और इन दलों के प्रत्याशी अपनी-अपनी चुनाव तैयारियों में जुटे हुए है, लेकिन चुनाव के ठीक पहले रांची विधानसभा क्षेत्र से पांच पर निर्वाचित विधायक और वर्त्तमान में राज्य के नगर विकास मंत्री सीपी सिंह के खिलाफ पार्टी नेताओं ने ही मोर्चा खोल दिया है।

-sponsored-

विस चुनाव के पहले मंत्री सीपी सिंह के खिलाफ मोर्चाबंदी

सिटी पोस्ट लाइव, रांची: झारखंड विधानसभा का चुनाव आगामी नवंबर-दिसंबर महीने में संभावित है। सभी राजनीतिक पार्टियां और इन दलों के प्रत्याशी अपनी-अपनी चुनाव तैयारियों में जुटे हुए है, लेकिन चुनाव के ठीक पहले रांची विधानसभा क्षेत्र से पांच पर निर्वाचित विधायक और वर्त्तमान में राज्य के नगर विकास मंत्री सीपी सिंह के खिलाफ पार्टी नेताओं ने ही मोर्चा खोल दिया है। भाजपा के प्रदेश कोषाध्यक्ष और राज्यसभा सांसद महेश पोद्दार ने नगर विकास मंत्री सीपी सिंह की कार्य प्रणाली पर जिस तरह से कई सवाल उठाये है और सार्वजनिक रूप से बयान देकर तथा खुला पत्र लिखकर भड़ास निकाली है, उसके कारण पार्टी नेताओं के माथे पर चिंता की लकीरें देखी जा रही है। करीब दो दशक तक रांची में एक निर्विवाद और शाक्तिशाली नेता के रूप में सीपी सिंह की पकड़ बनी रही। इस दौरान पार्टी के कद्दावर नेताओं का भी उन्हें समर्थन मिलता रहा। लेकिन पहली बार संगठन के अंदर किसी नेता उन्हें खुली चुनौती देने का काम किया है। राज्यसभा सांसद महेश पोद्दार ने राजधानी रांची में नगर विकास विभाग द्वारा चलायी जा रही कई योजनाओं की गुणवत्ता और कार्य प्रणाली पर सवाल उठाया है, उसे पार्टी के अन्य नेताओं का भी खुला समर्थन मिल रहा है। पार्टी के कई नेताओं ने वर्ष 2014 के विधानसभा चुनाव में भी सीपी सिंह का टिकट काटने की मांग नेतृृृृत्व के समक्ष रखी थी, लेकिन तब पार्टी के एक शीर्ष नेताओं की मदद से वे टिकट पाने में सफल रहे, लेकिन इस बार भी संगठन के अंदर उनके बढ़ते विरोधियों की संख्या के मद्देनजर इस बार भी उन्हें पुनः टिकट हासिल करने में काफी मशक्कत का सामना करना पड़ सकता है।

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.