By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

दरभंगा के लाल किले पर वर्षों बाद राज परिवार के सदस्य ने फहराया झंडा, जानिए क्या कहा

;

- sponsored -

दरभंगा का लाल किला के नाम से मशहूर ऐतिहासिक राज किला पर 59 साल बाद राज परिवार के रामेश्वर सिंह के पौत्र व स्वर्गीय कुमार सुभेश्वर सिंह के छोटे पुत्र कुमार कपिलेश्वर सिंह राज किला पर ध्वजारोहण किया. इस मौके पर हजारों की संख्या में जनपद पर लोग उपस्थित होकर इस दिन का आनंद ले रहे थे.

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव : दरभंगा का लाल किला के नाम से मशहूर ऐतिहासिक राज किला पर 59 साल बाद राज परिवार के रामेश्वर सिंह के पौत्र व स्वर्गीय कुमार सुभेश्वर सिंह के छोटे पुत्र कुमार कपिलेश्वर सिंह राज किला पर ध्वजारोहण किया. इस मौके पर हजारों की संख्या में जनपद पर लोग उपस्थित होकर इस दिन का आनंद ले रहे थे. कुमार कपिलेश्वर सिंह ने कहा कि उन्हें बेहद खुशी है कि 59 साल बाद विराज किला पर ध्वजारोहण किए. इसके लिए खास तौर पर दिल्ली से दरभंगा आए थे.

उन्होंने कहा कि राज परिवार की ओर से आखिरी बार इस राज किले पर 1962 ईस्वी में ध्वजारोहण किया गया था. गंगा के राज किला समेत उसकी ऊंचाई 84 फीट है. कुमार ने कहा कि यह अलग बात है कि वर्षों पहले दरभंगा राज परिवार द्वारा इस किले पर तिरंगा फहराया जाता था, पर बरसों बाद शहर के जागरूक युवाओं द्वारा फिर से इस ऐतिहासिक किले पर तिरंगा फहराया गया.

राज परिवार सदियों से मिथिलांचल के जनमानस के हितैषी कार्यों के साथ कदम से कदम मिलाकर खड़ा है और रहेगा. इसी उद्देश्य से मैं यहां के नागरिकों से अनुरोध करना चाहूंगा कि आइए हम सब मिलकर अपने धरोहर को बचाए और इस ऐतिहासिक महापर्व में इस किले का नाम और गौरवपूर्ण इतिहास जन-जन तक पहुंचाएं. उन्होंने कहा कि राज परिवार गरीब व बीमार लोगों की सहायता के लिए कई कार्य कर रहे हैं. साथ ही धरोहर की रक्षा के लिए एवं कई शैक्षणिक कार्य आरंभ करने की भी योजनाएं हैं. जिससे संपूर्ण भारत को फिर से राज दरभंगा के विषय में जानकारी मिल सकेगी.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

उन्होंने कहा कि एक प्रतिष्ठित पर्यटन स्थल होने के बावजूद बहुत कम लोग जानते हैं कि दरभंगा किला नई दिल्ली के लाल किला से मिलता-जुलता है. इसके लिए विशेष लोहे की सीडी खड़ी की गई है और तिरंगे को फहराने के लिए किले के प्रवेश द्वार के सिर पर पहुंचने के लिए नवीनतम हाइड्रोलिक उपकरण का उपयोग किया गया है. गणतंत्र दिवस पर सिंह की ओर से मध्य स्थित स्वामी विवेकानंद कैंसर अस्पताल में 10 जरूरतमंद कैंसर रोगियों की राजपरिवार के खर्चे पर कीमोथेरेपी कराई जाएगी

दरभंगा से अजीत कुमार की रिपोर्ट

;

-sponsored-

Comments are closed.