By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

लेवी की रकम के लिए नक्सलियों ने क्लासिक इंजीकॉम के अधिकारियों को बुलाया

उसी फोन से आया कॉल जिससे 6 महीने पहले आया था मैसेज 

- sponsored -

सड़क निर्माण में लगी एक कंपनी के कर्मचारी का अपहरण कर नक्सली संगठन ने कंपनी के अधिकारियों को फोन कर लेवी की उनकी मांग पर बातचीत के लिए बुलाया है।

-sponsored-

लेवी की रकम के लिए नक्सलियों ने क्लासिक इंजीकॉम के अधिकारियों को बुलाया

सिटी पोस्ट लाइव, रामगढ़: सड़क निर्माण में लगी एक कंपनी के कर्मचारी का अपहरण कर नक्सली संगठन ने कंपनी के अधिकारियों को फोन कर लेवी की उनकी मांग पर बातचीत के लिए बुलाया है। इसे लेकर नक्सली संगठन ने फोन पर अधिकारियों से दो बार संपर्क किया है। नक्सलियों और क्लासिक इंजीकॉम के अधिकारियों के बीच हुई इस वार्ता की पुष्टि एसपी प्रभात कुमार ने भी की है। रजरप्पा में जिस सड़क का निर्माण कार्य क्लासिक इंजीकॉम कंपनी कर रही है, उसका टेंडर 86 करोड़ रुपए में हुआ था। इतनी मोटी रकम से बनने वाली सड़क के निर्माण कार्य में सबसे बड़ा रोड़ा टीपीसी नक्सली संगठन है। छह महीने पहले इस संगठन ने क्लासिक इंजीकॉम की 9 गाड़ियां जला दी थी। इसबार नक्सलियों ने कंपनी के नाइट गार्ड राजू महतो का अपहरण कर लिया है। पूरा मामला नक्सलियों द्वारा मांगे गए तीन प्रतिशत की लेवी से जुड़ा है। 6 महीने पहले ही टीपीसी संगठन के नाम से क्लासिक इंजीकॉम के अधिकारियों को मैसेज किया गया था कि कंपनी उन्हें लेवी की रकम दे लेकिन कंपनी उनके आगे नहीं झुकी। 6 महीने पहले टीपीसी नामक संगठन को संचालित कर रहे कुख्यात अपराधी बाजीराम महतो के नेतृत्व में लेवी की रकम वसूलने का प्रयास हुआ था। पुलिस ने उस कांड का न सिर्फ उद्भेदन किया बल्कि पुलिस मुठभेड़ में बाजीराम महतो को मार गिराया गया। उसके बाद संगठन के बाकी सदस्य कुछ महीने के लिए शांत हो गए। छह महीने बाद अब इस संगठन ने फिर से कंपनी को निशाना बनाते हुए उसके एक कर्मचारी का अपहरण कर लिया। इसबार इस संगठन की बागडोर किसके हाथ में है, पुलिस इसका पता लगा रही है। खासबात यह है कि नक्सलियों ने इसके लिए दो बार कंपनी के अधिकारियों से संपर्क किया है। कंपनी के अधिकारियों को लेवी की रकम पर बात करने के लिए संगठन ने अपने पास बुलाया है। नक्सलियों और क्लासिक इंजीकॉम के अधिकारियों के बीच हुई वार्ता की पुष्टि एसपी प्रभात कुमार ने भी की है। सूत्रों के अनुसार जिस मोबाइल से कंपनी के अधिकारियों को फोन किया जा रहा है, वही मोबाइल छह महीने पहले कुख्यात बाजीराम महतो ने भी लेवी मांगने के लिए इस्तेमाल किया था।

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.