By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

किसी भी व्यक्ति की जमीन कोई नहीं छीन सकताः रघुवर दास

झारखंड सरकार ने खींची संथाल परगना में विकास की नई लकीर  

;

- sponsored -

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि लोगों में ऐसी अफवाह फैलायी गयी कि सरकार आपकी जमीन को छीन लेगी लेकिन पिछले साढ़े चार वर्षाें में सरकार ने लोगों के विश्वास को जीता है।

-sponsored-

-sponsored-

किसी भी व्यक्ति की जमीन कोई नहीं छीन सकताः रघुवर दास
सिटी पोस्ट लाइव, दुमका/रांची: मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि लोगों में ऐसी अफवाह फैलायी गयी कि सरकार आपकी जमीन को छीन लेगी लेकिन पिछले साढ़े चार वर्षाें में सरकार ने लोगों के विश्वास को जीता है। जबतक भाजपा की सरकार है, किसी भी व्यक्ति की जमीन कोई नहीं छीन सकता है। मुख्यमंत्री दास सोमवार को दुमका राजभवन में संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि झारखंड सरकार संथाल परगना के सर्वांगीण विकास के लिए कृतसंकल्पित है। पिछले साढ़े चार वर्षों में सरकार ने संथाल परगना में विकास की एक नई लकीर खींची है। सरकार सभी क्षेत्रों में कार्य कर रही है। झारखंड की जनता खुशहाली के साथ अपना जीवन-यापन करे, यही सरकार की सोच है। उन्होंने कहा कि आदिवासी समाज के जीवन स्तर में सुधार आये और आदिवासी समाज के लोग हर क्षेत्र में आगे बढ़ें, इस दिशा में सरकार निरंतर कार्य कर रही है। अगर पिछले 70 वर्षों में आदिवासी समाज के एक-एक गांव को विकास के पथ पर लाया जाता तो आज तस्वीर कुछ और होती। पिछले 70 वर्षों में आदिवासी समाज के लोगों को बहला-फुसलाकर ठगने का कार्य कुछ विकास विरोधी शक्तियों ने किया है। वर्तमान सरकार आदिवासी समाज सहित झारखंड के लोगों के हितों के लिए कार्य कर रही है। मुख्यमंत्री दास ने कहा कि पिछले 70 वर्षों में 38 लाख घरों में ही बिजली पहुंची थी लेकिन साढ़े चार वर्षों में 30 लाख घरों में बिजली पहुंचाने का कार्य सरकार ने किया है। सरकार ने 117 ग्रीड तथा 217 सब स्टेशन बनाया। बहुत जल्द झारखंड की जनता को निर्बाध रूप से बिजली मिलेगी। सरकार जनता के साथ मिलकर काम कर रही है। आयुष्मान भारत योजना के माध्यम से अब गरीबों को इलाज के लिए किसी से कर्ज लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी। किसी भी सूचीबद्ध सरकारी और गैर सरकारी अस्पताल में जाकर वे अपना मुफ्त इलाज करा सकेंगे। मुख्यमंत्री दास ने कहा कि राज्य सरकार ग्रामीण जनजीवन में सुधार के लिए लगातार प्रयासरत है। अब गांवों में भी शहरों की तरह रोशनी, पेयजल, सड़क इत्यादि सुविधाएं मिलेगी। साथ ही रोजगार के नए अवसर भी मिलेंगे, इससे लोगों का पलायन रुकेगा।

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.