By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

रोहतास : गुरुकुल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में हुआ सम्मान समारोह का आयोजन

Above Post Content

- sponsored -

बिहार राजद के महासचिव फतेहबहादुर सिंह और इंद्रपुरी थानाध्यक्ष गौतम कुमार व इंस्टिट्यूट के प्रबंध निदेशक अधिवक्ता आर.पी.सिंह मौजूद रहे.कार्यक्रम का उद्धघाटन दिप प्रज्वलित कर संयुक्त रूप से अतिथियों ने किया।

Below Featured Image

-sponsored-

रोहतास : गुरुकुल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में हुआ सम्मान समारोह का आयोजन

रोहतास : आज रोहतास जिले के डेहरी अनुमंडल अंतर्गत सुजानपुर गाँव मे गुरुकुल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में सम्मान समारोह कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें सैकड़ो की संख्या में छात्र-छात्राओं और समाजसेवी मौजूद रहे। कार्यक्रम में कंप्यूटर और अकाउंटेंसी में पासआउट छात्र और छात्राओं को सर्टिफिकेट और मैडल दिया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में बिहार राजद के महासचिव फतेहबहादुर सिंह और इंद्रपुरी थानाध्यक्ष गौतम कुमार व इंस्टिट्यूट के प्रबंध निदेशक अधिवक्ता आर.पी.सिंह मौजूद रहे.कार्यक्रम का उद्धघाटन दिप प्रज्वलित कर संयुक्त रूप से अतिथियों ने किया।

Also Read
Inside Post 3rd Paragraph

-sponsored-

कार्यक्रम के संबोधन में राजद प्रदेश महासचिव फतेहबहादुर सिंह ने कहा कि इस इंस्टिट्यूट के माध्यम से इन सुदूरवर्ती ग्रामीण क्षेत्रों में गुरुकुल जैसे शिक्षण संस्थाओं द्वारा शिक्षा का अलख जगाने से यहाँ के बच्चों में आत्मनिर्भरता आयेगी और एक नये रोजगार की ओर बच्चे आगे बढ़ेंगे। इंद्रपुरी थानाध्यक्ष गौतम कुमार ने कहा कि मेरे दो साल के कार्यकाल में मैंने इस इंस्च्यूट के माध्यम से सैकड़ो गरीब बच्चों को शिक्षा प्राप्त कर आत्मनिर्भर बनते देखा है। ये इंस्टिट्यूट गरीब बच्चों के लिये एक अच्छा प्लेटफार्म है। शिक्षा सिर्फ पैसे कमाने के लिये नहीं है, बल्कि ज्ञान प्राप्त कर समाज मे एक अलग पहचान स्थापित करने के लिये भी है। आज कुछ ऐसे भी ज्ञानी पुरुष इस समाज में जिंदा हैं जो शिक्षा प्राप्त कर पैसे नहीं कमायें लेकिन आज समाज मे उन्हें लोग ज्ञानी पुरुष के रूप में अपना प्रेरणास्रोत मानते हैं।

वहीं इंस्च्यूट के CEO सविनय कुमार ने इंस्टिट्यूट के विस्तारीकरण के बारे में बताया। उन्होंने कहाँ की मई 2013 से ये इंस्टिट्यूट की नींव रखी गयी थी। उसके बाद से लगातार कामयाबी की ओर निरंतर अग्रसर करता रहा है। आज इस मुकाम पर है। और आज एक नये अकॉटेसी कोर्स की शुरुवात की गयी है जिससे कोई भी गरीब के बच्चे स्वयं रोजगार प्राप्त कर आत्मनिर्भर हो सकेंगे। वही कार्यक्रम में सैकड़ो छात्र- छात्राओं ने संस्कृति कार्यक्रम को प्रस्तुत किया और इन सभी प्रतिभागियों सम्मान देकर पुरस्कृत किया गया।

वही डेहरी में गरीब बच्चों के लिए नि:शुल्क शिक्षण संस्थान पहचान द स्ट्रीट में बड़े धूम-धाम से बच्चों के बीच केक काटकर क्रिसमस डे मनाया गया। पहचान द स्ट्रीट कि निदेशक फ़िज़ा आफरीन ने बताया कि अपने शिक्षण संस्थान में हमलोग सभी धर्मो के पर्वो को बच्चों को बीच मनाते है और बच्चों को पर्व की संस्कृति महता बारे में बताते है और फ्री एजुकेशन के साथ उन सभी जरूरतों चीजों को पूरी करते है, अविनाश कुमार ने बताया कि ये समाज के लिए बहुत ही सराहनीय कार्य है, जबकि शहर के डॉक्टर एस के निषाद ने भी इस आयोजन मे भाग लिया और बच्चों के बीच उपहार चॉकलेट और मिठाईयॉ बांटी।

रोहतास से विकाश चन्दन की रिपोर्ट

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.