By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

रमेश झा की 34 वीं पुण्यतिथि मनाई गई, सामाजिक कार्यकर्ताओं ने किया नमन

- sponsored -

महान स्वतंत्रता सेनानी सह बिहार सरकार के पूर्व काबीना मंत्री रहे रमेश झा कि 34 वीं पुण्यतिथि मनाई गई।इस पावन मौके पर सामाजिक कार्यकर्ताओं ने उनके पैतृक गाँव गढ़िया में उनके स्मृति स्थल एवं बनगाँव के भगवती स्थान में 34 दीप जलाकर उन्हें नमन किया।

-sponsored-

रमेश झा की 34 वीं पुण्यतिथि मनाई गई, सामाजिक कार्यकर्ताओं ने किया नमन

सिटी पोस्ट लाइव : महान स्वतंत्रता सेनानी सह बिहार सरकार के पूर्व काबीना मंत्री रहे रमेश झा कि 34 वीं पुण्यतिथि मनाई गई।इस पावन मौके पर सामाजिक कार्यकर्ताओं ने उनके पैतृक गाँव गढ़िया में उनके स्मृति स्थल एवं बनगाँव के भगवती स्थान में 34 दीप जलाकर उन्हें नमन किया। उनके गाँव गढ़िया में पूर्व विधायक आलोक रंजन, रोशन झा, अमित कन्हैया, डब्बू मिश्रा, दीपक कुमार झा, अमर ज्योति जायसवाल, रवि, ईश्वर कात्यायन, सहित सैकड़ो ग्रामीणों ने दीप जलाकर, सबसे पहले उन्हें नमन किया।इस मौके पर आलोक रंजन ने कहा आज के युवा पीढ़ी को उनसे सीख लेनी चाहिये। आईसे सामाजिक पुरोधा बार-बार इस धरा पर नहीं आते हैं।

इस कार्यक्रम के साथ ही बनगाँव के भगवती स्थान में एक श्रधांजलि सभा का आयोजन किया गया जिसकी अध्यक्षता महावीर झा ने किया और मंच संचालन पारस कुमार झा एवं सुमन समाज ने साझे रूप से किया। इस श्रद्धांजलि सभा को सम्बोधित करते हुए ब्राह्मण सभा के प्रखर वक्ता रमण झा ने कहा कि युवाओं के द्वारा किये जा रहे कार्यक्रम और जारूकता निश्चित रूप से सराहनीय है और युवाओं के द्वारा बनगाँव में रमेश बाबू की प्रतिमा अनावरण की बात की गयी वो अकल्पनीय और अतुलनीय है। हरहाल में उनकी अगली पुण्यतिथि में हमलोग उनकी प्रतिमा का अनावरण करने का संकल्प लें इसमें हरसंभव हम हरेक चीज से मदद करने को तैयार हैं। विमलकांत झा ने कहा कि आज सभी को रमेश झा कि रमेशी बनने कि जरूरत है, तब ही हमारा समाज आगे बढ़ सकता है।

Also Read

-sponsored-

पंडित रघुवंश झा ने कहा कि वो कभी जातिवाद नही करते थे ।वो महान समाजवादी नेता थे। आरापट्टी पंचायत की मुखिया शांति लक्ष्मी चौधरी ने कहा जहाँ सरकार आज नारी शिक्षा पर सिर्फ राजनीति कर रही है वहीं दिवंगत रमेश झा ने बहुत पूर्व ही नारी शिक्षा पर सरकार में रहकर सरकार के विरुद्ध सदन में आवाज उठाकर काम किये। बनगाँव उत्तरी के पूर्व मुखिया धनंजय झा ने कहा कि सहरसा के लगभग 3000 लोगों को उन्होंने नौकरी दी। अक्षय चौधरी ने कहा कि ये बड़ा दुर्भाग्य है कि इतने अच्छे लोग, जिन्होंने इतने काम किये लेकिन उनके बारे में गूगल पर कोई भी जानकारी उपलब्ध नहीं है।

सुदीप कुमार सुमन ने कहा कि ये दुर्भाग्य है की जिन्होंने इतने लोगों की मदद की लेकिन उन्हें याद करने वाला और इनके नाम पर कार्यक्रम करना भी कोई नहीं चाहते हैं। लोगों ने उनकी महती मदद को भुला दिया। कोसी प्रमंडल में इकलौता सहरसा का अंगीभूत रमेश झा महिला कॉलेज, लड़कियों के लिए मिल का पत्थर है। राहुल बिलटू ने कहा वे एक समाजवादी थे। इस मौके पर गोपाल झा, संदीप कश्यप, निर्मल मिश्र, कुमुदानंद झा, धनंजय झा, चंदन पाठक, रंजेश झा, शशि भारद्वाज, रविशंकर कुमार, अमित आनंद, सुप्रीत राज विकास, रविन्द्र मृणाल कामेश, त्रिपुरारी, डॉ अमीर खां, हिमांशु झा, चंचल, योगेश भारद्वाज सहित सैकड़ो ग्रामीणों ने 34 दीप प्रज्वलित किया एवं एक मिनट मौन धारण कर उन्हें श्रद्धांजलि दी।

संकेत सिंह की रिपोर्ट

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.