By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान के द्वारा संघर्ष विराम के उलंघन के बाद फायरिंग में डेहरी का लाल शहीद

- sponsored -

नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तानी सेना से मुकाबला करते रोहतास जिले का एक लाल शहीद हो गया। पाकिस्तान की सेना ने मंगलवार सुबह करीब 11 बजे पुंछ जिले के कृष्णा घाटी सेक्टर में संघर्ष विराम का फिर उल्लंघन किया। पाक सेना ने भारी गोलाबारी की, नियंत्रण रेखा के पास अग्रिम चैकियों और गांवों पर मोर्टार दागे.

नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान के द्वारा संघर्ष विराम के उलंघन के बाद फायरिंग में डेहरी का लाल शहीद

सिटी पोस्ट लाइवः नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तानी सेना से मुकाबला करते रोहतास जिले का एक लाल शहीद हो गया। पाकिस्तान की सेना ने मंगलवार सुबह करीब 11 बजे पुंछ जिले के कृष्णा घाटी सेक्टर में संघर्ष विराम का फिर उल्लंघन किया। पाक सेना ने भारी गोलाबारी की, नियंत्रण रेखा के पास अग्रिम चैकियों और गांवों पर मोर्टार दागे। पाकिस्तानी सेना द्वारा की गई भारी गोलीबारी जिसका भारतीय सेना ने मुँहतोड़ जवाब दिया। इस दौरान पाक की गोलीबारी में सेना का एक जवान लांसनायक रवि रंजन कुमार दुश्मनों से लोहा लेते हुए शहीद ।

भारतीय सेना के जवान 36 वर्षीय रवि रंजन कुमार सिंह ने शहादत प्राप्त की वो रोहतास जिले के गोपी बिगहा गावँ के रहने वाले साथ ही चार अन्य जवान घायल हो गए हैं, जिनका उपचार चल रहा है। लांसनायक रविरंजन कुमार यादव रोहतास जिले के डेहरी थाना अंतर्गत गोपी बिगहा गावँ निवासी रामनाथ सिंह यादव के द्वितीय पुत्र थे। उनके परिवार में उनकी पत्नी रीता देवी व दो पुत्र तथा एक पुत्री हैं।शाहिद का अंत्योष्टि पूरे सम्मान के साथ उनके पार्थिव शरीर आने पर किया जायेगा ।वही अपने गांव के लाल के शहादत पर यहाँ के लोग को अपने को खोने का दर्द तो है ही वही दूसरी ओर गावँ के लोगो को अपने इस वीर सपूत पर नाज ओर गर्व भी हो रहा है । रामनाथ यादव के दो पुत्र में बड़ा पुत्र सुनील यादव भी सेना से सेवानिवृती के बाद कोलकता में बंगाल मिलिट्री में है और शहीद लांसनायक रविरंजन सिंह 2002 में सेना में बहाल हुए थे ।

Also Read

-sponsored-

शाहिद रविरंजन के दो पुत्र ,शशि ( 11 वर्ष) , पीयूष (5 वर्ष),तथा एक बेटी सपना जो 7 वर्षीय है । जैसे ही रविरंजन के शहीद होने की खबर आई उनके परिवार के चितकार से सबकी आँखे नम हो गयी । । एक तरफ पत्नी रीता देवी और माता कौशल्या का रो रोकर बुरा हाल था तो वृद्ध पिता को मानो विश्वास ही नही हो रहा था कि उनके कलेजे का टुकड़ा देश की रक्षा में अपने प्राणों को न्योछावर कर दिया है। शहीद रविरंजन के पार्थिव शरीर आने पर पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा ।

रोहतास से विकास चंदन की रिपोर्ट

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.