City Post Live
NEWS 24x7

बिहार और झारखंड पुलिस का लिए सिर दर्द 18 लाख का इनामी कुख्यात नक्सली गिरफ्तार

- Sponsored -

-sponsored-

- Sponsored -

सिटी पोस्ट लाइव :  बिहार और झारखंड पुलिस के लिए सिर दर्द बना 18 लाख का इनामी भाकपा माओवादी के रीजनल कमांडर विनय यादव उर्फ कमल उर्फ किसलय उर्फ मुराद को गिरफ्तार कर लिया गया है. औरंगाबाद एवं पलामू की पुलिस के साथ-साथ सीआरपीएफ और कोबरा बटालियन के संयुक्त ऑपरेशन से उसे गिरफ्तार किया गया है. नक्सली रीजनल कमांडर विनय यादव की गिरफ्तारी बिहार एवं झारखंड पुलिस के लिए एक बड़ी कामयाबी है. औरंगाबाद और झारखंड के पलामू जिला पुलिस व कोबरा और सीआरीएफ की संयुक्त छापेमारी टीम के द्वारा गिरफ्तार किया गया भाकपा माओवादी संगठन का कुख्यात नक्सली विनय यादव औरंगाबाद और गया जिला के अलावा झारखंड के पलामू जिले के करीब 61 से अधिक नक्सल कांडों में शामिल रहा है। बिहार के साथ-साथ वो झारखंड के चतरा जिले के भी नक्सल कांडों में शामिल रहा है।

औरंगाबाद एसपी कांतेश कुमार मिश्र और पलामू,झारखण्ड एसपी चंदन कुमार सिन्हा ने शुक्रवार को औरंगाबाद समाहरणालय स्थित योजना भवन में संयुक्त रुप से प्रेसवार्ता कर बताया कि विनय यादव पर बिहार सरकार ने 3 लाख और झारखंड सरकार ने 15 लाख का इनाम घोषित कर रखा था। एसपी कांतेश कुमार मिश्रा ने बताया कि गिरफ्तार रीजनल कमांडर विनय यादव वर्ष 2003 से ही नक्सली कांडों में सक्रिय रहा है. वर्ष 2016 से जोनल और रीजनल कमांडर के तौर पर औरंगाबाद के मदनपुर, सलैया, ढिबरा, देव और गया के बांके बाजार एवं पलामू के विभिन्न क्षेत्रों में नक्सली कांडों को अंजाम दे रहा था. इस नक्सली की गिरफ्तारी से कई अन्य मामले भी उजागर हुए हैं.

2016 में ब्लास्ट कर फैलाया था दहशत

साथ ही एसपी ने बताया कि गिरफ्तार नक्सली पर औरंगाबाद जिले में 47 गया और बाराचट्टी में 7 एवं झारखंड के पलामू में 7 मामले दर्ज हैं. इसके अलावा इस नक्सली के नेतृत्व में वर्ष 2016 में गया के डुमरी नाला में आईईडी ब्लास्ट किया गया था जिसमें 10 जवान शहीद हुए थे. गिरफ्तार नक्सली अंबा का रहने वाला है और औरंगाबाद में उसे कुछ लोगों द्वारा संरक्षण भी दिया जा रहा था. उनमें अमरेंद्र पासवान एवं इदरीस अंसारी को भी गिरफ्तार किया गया है.

20 लाख रुपये कैश बरामद

नक्सली की गिरफ्तारी के बाद उसकी निशानदेही पर छकरबंधा के जंगल में छिपाकर रखे गए 20 लाख रुपये नगद बरामद किए गए हैं. एसपी ने बताया कि यह रुपये पूर्व नक्सली जोनल कमांडर संदीप यादव के द्वारा लेवी में वसूले गए थे जिसका उपयोग उनके मरने के बाद विनय यादव के द्वारा नक्सलियों के सपोर्ट में किया जा रहा था. उन्होंने बताया कि पुलिस के लिए तीसरी बड़ी उपलब्धि है इसके भी विभिन्न जिलों के द्वारा चलाए जा रहे संयुक्त ऑपरेशन से 50 लाख के इनामी नक्सली मिथिलेश मेहता और कुख्यात नक्सली विजय आर्या को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल हुई थी.अंत मे उन्हों ने बताया कि इस अभियान में सम्लित पुलिस अधिकारी एवं कर्मी पुरस्कृत किए जाएंगे।

विकाश चंदन की रिपोर्ट

- Sponsored -

-sponsored-

Subscribe to our newsletter
Sign up here to get the latest news, updates and special offers delivered directly to your inbox.
You can unsubscribe at any time

- Sponsored -

Comments are closed.