By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

झारखंड में संस्कृत महाविद्यालय की होगी स्थापना,पढ़ाई एक-दो महीने में होगी शुरू : सीएम

जनजातीय यूनिवर्सिटी का ब्रांच भी खुलेगा, केंद्रीय मानव संसाधनमंत्री ने सहयोग का दिलाया भरोसा

;

- sponsored -

झारखंड में जल्द ही संस्कृत महाविद्यालय की स्थापना होगी और एक दो महीने में पढ़ाई भी शुरू हो जाएगी। इसके अलावा राज्य में जनजातीय यूनिवर्सिटी की शाखा भी स्थापित की जाएगी, इसमें केंद्र सरकार की ओर से हरसंभव सहयोग का भरोसा दिलाया गया है।

-sponsored-

-sponsored-

झारखंड में संस्कृत महाविद्यालय की होगी स्थापना, पढ़ाई एक-दो महीने में होगी शुरू : सीएम

सिटी पोस्ट लाइव, रांची: झारखंड में जल्द ही संस्कृत महाविद्यालय की स्थापना होगी और एक दो महीने में पढ़ाई भी शुरू हो जाएगी। इसके अलावा राज्य में जनजातीय यूनिवर्सिटी की शाखा भी स्थापित की जाएगी, इसमें केंद्र सरकार की ओर से हरसंभव सहयोग का भरोसा दिलाया गया है। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने गुरुवार को नई दिल्ली में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री से मुलाकात के बाद पत्रकारों से बातचीत में यह जानकारी दी। रघुवर दास ने बताया कि जनजातीय विश्वविद्यालय की स्थापना को लेकर केंद्र और झारखंड के विभागीय सचिवों को आवश्यक पहल का निर्देश दिया गया है। इसके अलावा पारा शिक्षकों के बकाया मानदेय 417करोड़ रुपये के भुगतान को लेकर भी अधिकारियों को बैठक कर जल्द मामले का निष्पादन का निर्देश दिया गया है। मुख्यमंत्री ने बताया कि केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री से विभिन्न परियोजनाओं के लिए आवश्यक अनापत्ति प्रमाण पत्र को लेकर चर्चा हुई। वहीं केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से सड़क परियोजनाओं और कोयला मंत्री के साथ कोयला से संबंधित मुद्दों को लेकर चर्चा होगी। उन्होंने बताया कि ग्रीन फील्ड स्मार्ट सिटी को लेकर भी केंद्र सरकार से सहयोग की अपील की गयी है। उन्होंने बताया कि आने वाले समय में देवघर पूरी दुनिया में अध्यात्मिक शक्ति केंद्र के रूप में विकसित होगा, केंद्र सरकार से देवघर में लगने वाले श्रावणी मेला को राष्ट्रीय मेला का दर्जा देने की अनुशंसा की गयी है और इससे संबंधित प्रस्ताव शीघ्र ही राज्य सरकार की ओर से केंद्र सरकार को उपलब्ध करा दी जाएगी। झारखंड में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर एक बार फिर विपक्षी दलों के गठबंधन पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा को इस गठबंधन को लेकर कोई चिंता नहीं है, पार्टी अपने लक्ष्य के मुताबिक 65प्लस सीटों को हासिल करने के लक्ष्य को लेकर काम कर रही है।

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.