By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

सरहद पर पाक फायरिंग में शहीद संतोष गोप का पार्थिव शरीर कल को झारखंड पहुंचेगा

गर्व है कि हमारा लाल देश के काम आया : माता-पिता

;

- sponsored -

जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान की फायरिंग में शहीद हुए जवान संतोष गोप का पार्थिव शरीर सोमवार को उनके गृहराज्य झारखंड पहुंचेगा।

-sponsored-

-sponsored-

सरहद पर पाक फायरिंग में शहीद संतोष गोप का पार्थिव शरीर कल को झारखंड पहुंचेगा

सिटी पोस्ट लाइव,  गुमला: जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान की फायरिंग में शहीद हुए जवान संतोष गोप का पार्थिव शरीर सोमवार को उनके गृहराज्य झारखंड पहुंचेगा। झारखंड के गुमला जिले के बसिया अनुमंडल अंतर्गत टेंगरा ममरला गांव निवासी जवान संतोष गोप के शहीद होने की खबर रविवार सुबह कर्नल ने दूरभाष पर परिजनों को दी। सूचना मिलते ही जवान के परिजनों के साथ-साथ पूरा इलाका गमगीन हो गया। इसके बावजूद मां सारो देवी को देश के लिए अपने लाल के बलिदान पर गर्व है। पाकिस्तान की सेना ने रविवार सुबह करीब 5:30 बजे सीजफायर का उल्लंघन किया जिसका भारतीय जवानों ने मुंहतोड़ जवाब दिया। इसी दौरान सीमा पार से ग्रेनेड फेंका गया, जिसमें झारखंड के जवान संतोष गोप शहीद हो गए। इस ख़बर के साथ ही पूरे क्षेत्र के लोगों का सुबह से ही शहीद जवान के घर आना-जाना लगा रहा। शहीद संतोष का शव सोमवार को  गांव लाया जायेगा।

2012 में आर्मी में भर्ती हुआ था शहीद संतोष

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

शहीद संतोष गोप वर्ष 2012 में आर्मी में भर्ती हुआ था। वह अंतिम बार मई महीने में अपने घर आया था। संतोष ने निर्मला हाईस्कूल ममरला से मैट्रिक की परीक्षा पास की थी और संत इग्नासयुस स्कूल गुमला से इंटर तक की पढ़ाई की थी। उनमें बचपन से ही देश सेवा के प्रति जुनून था। फिलवक्त वे जम्मू काश्मीर में तैनात थे।

एक का बदला दस से चाहिए : शहीद के माता पिता

शहीद के पिता जीतू गोप व मां सारो देवी ने कहा है कि उन्हें इस बात पर गर्व है कि उनका लाल देश के काम आया। उन्होंने बताया कि वह घर में कमाने वाला एकलौता था। बड़ा बेटा नीलाम्बर गोप खेतीबारी करता है। संतोष अपने माता-पिता के लिए गुमला में घर बनवा रहे थे, लेकिन उनकी यह इच्छा अधूरी रह गयी। वह दीपावली में घर आने वाला था, उसका विवाह करना था लेकिन वह शहीद हो गया।

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.