By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

कोरोना से मौत के बाद 8 घंटे तक पड़ा रहा शव, देखने के बाद भी अधिकारियों ने नहीं लिया कोई एक्शन.

HTML Code here
;

- sponsored -

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव :पटना हाईकोर्ट ने कोरोना से लड़ने की राज्य सरकार की सारी तैयारियों को अपर्याप्त बताते हुए कड़ी फटकार लगाईं है.कोर्ट ने कहा कि सरकार के पास कोई ठोस एक्शन प्लान नहीं है, ऐसे में वह अगर लॉकडाउन को लेकर फैसला नहीं लेती है तो कोर्ट खुद आगे की कारवाई करेगा.इस बीच  सोमवार को बेतिया के गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल (जीएमसीएच) से एक ऐसी तस्वीर सामने आई है, जो सरकार के सारे दावे को पलीता लगाने के इए काफी है.अस्पताल में  एक कैदी की कोरोना से मौत हो गई. मौत के बाद करीब आठ घंटे तक उसका शव अस्पताल के परिसर में पड़ा रहा लेकिन उस देखने वाला कोई नहीं था. इस दौरान सदर एसडीएम के नेतृत्व में एक टीम अस्पताल का जायजा लेने के लिए पहुंची लेकिन शव को देखकर भी अधिकारी मुंह घुमाकर चलते बने.

नरकटियागंज अनुमंडल अस्पताल में  एक व्यक्ति की मौत हो गई लेकिन कोरोना के डर की वजह से किसी ने शव को हाथ तक नहीं लगाया. हालांकि देर शाम दोनों जगह से शव को हटाया गया और दाह संस्कार के लिए भेजा गया. बेतिया के जीएमसीएच आईसोलेशन वार्ड में जिस कैदी की मौत हुई है उसका नाम निर्मल यादव है. वो वाल्मीकिनगर के भेड़िहारी का रहने वाला था.कैदी को बेतिया मंडल कारा से आईसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया था. नरकटियागंज अनुमंडल अस्पताल में जिसकी मौत हुई उसका नाम गोल्डी था और उसका शव आठ घंटे तक नरकटियागंज अनुमंडल अस्पताल में पड़ा रहा. जिले के सबसे बड़े अस्पताल जीएमसीएच परिसर में कैदी का शव घंटों यूं हीं पड़ा रहा जिससे अस्पताल प्रबंधन की व्यवस्था पर सवाल खड़ा हो रहे हैं. नरकटियागंज अनुमंडल अस्पताल में भी आठ घंटे तक एक व्यक्ति का शव पड़ा रहा और मृतक गोल्डी की पत्नी घाट पर शव का इंतजार कर रही थी.

;
HTML Code here

-sponsored-

Comments are closed.