By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

सुशील मोदी बोले- बिहार में नहीं होगी आटे की किल्लत, सरकार कर रही है व्यवस्था.

;

- sponsored -

-sponsored-

-sponsored-

सुशील मोदी बोले- बिहार में नहीं होगी आटे की किल्लत, सरकार कर रही है व्यवस्था.

सिटी पोस्ट लाइव : कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर चल रहे लॉक डाउन की वजह से आटा बाज़ार से गायब हो गया है.लॉक डाउन के दुसरे दिन लोग राशन की दुकानों पर उमड़ पड़े. लोगों ने थोक भाव में आटा की खरीददारी शुरू कर दी.आटा बाज़ार से अचानक गायब हो गया. बिहार सरकार ने दावा किया है कि आटा की किल्लत नहीं होने दी जायेगी. बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि  सरकार कोरोना आपादा को लेकर हर संभव प्रयास ये कर रही है कि किसी को खाने-पीने की दिक्कत ना हो. भारतीय खाद्य निगम (Food Corporation of India) ने केंद्र सरकार के निर्देश के बाद बिहार के फ्लावर मिल्स और खाद्यान्न के थोक व्यापारियों को एक माह में 55 हजार मीट्रिक टन गेहूं निर्घारित दर पर देगा.

लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान और गेहूं की नई फसल के अप्रैल के दूसरे सप्ताह तक बाजार में आने तक आटे की किल्लत नहीं हो, इसलिए बिहार सरकार ने केंद्र सरकार से एफसीआई (FCI) के जरिए गेहूं दिलाने का आग्रह किया था.बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने बताया कि पहली खेप के तौर पर एक सप्ताह के लिए पटना के 13 और अन्य जिलों के 80 फ्लावर मिल्स और थोक व्यापरियों को एफसीआई की ओर से 22800 मीट्रिक टन गेहूं उपलब्ध कराया जा रहा है.सुशील मोदी ने बताया कि एफसीआई के जरिए बिहार के पटना, नालंदा, भोजपुर, बक्सर, कैमूर, रोहतास, गया, भागलपुर, जमुई, हाजीपुर, वैशाली, सीतामढ़ी, दरभंगा, सहरसा आदि जिलों के फ्लावर मिल्स और थोक व्यापारियों को गेहूं उपलब्ध कराया जाएगा.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

आशीर्वाद ब्रांड आटा तैयार करने वाली कंपनी आईटीसी के अधिकारियों ने भी आश्वस्त किया है पश्चिम बंगाल के आसनसोल और बनारस की फैक्ट्री से माल मंगाने की बधाएं दूर कर ली गई है . बिहार के मुजफ्फरपुर स्थित फैक्ट्री में दोनों शिफ्ट में उत्पादन शुरू कर दिया गया है. इसलिए अब बिहार में आटे की किल्लत नहीं होगी.

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.