By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

पटना में कोरोना का जलजला, राजभवन के 7 स्टॉफ,3 डॉक्टर निकले पॉजिटिव.

;

- sponsored -

विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना के संक्रमण से ज्यादा नुकशान अफवाहों से हो रहा है.कोरोना के संक्रमण का ईलाज घर में भी संभव है.ज्यादातर लोग घरों में ही रहकर स्वस्थ हो रहे हैं.अभीतक इसकी कोई खास दवा नहीं है.सर्दी खांसी और बुखार की दवा से ही कोरोना मरीज ठीक हो रहे हैं.अस्पताल जाने की जरुरत तभी है जब ऑक्सीजन का लेवल 80 से कम आ जाए.

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव :बिहार की राजधानी पटना में कोरोना के संक्रमण ने कोहराम मचा रखा है. पटना में संक्रमण का बुरा हाल है.स्वास्थ्य विभाग की ताजा अपडेट के अनुसार राजधानी पटना में फिर से 532 कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं.इस सूचि में राजभवन के सात कर्मी, तीन डॉक्टर शामिल हैं.पटना में कोरोना पूरी तरह बेकाबू हो चला है.पटना में जिल में ही कोरोना संक्रमितों की संख्या 8662 हो गई है.पटना में जो 3 डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव मिले हैं उनमें से 2 आईजीआईएमएस और एक पीएमसीएच के हैं.इसके अलावा 30 से ज्यादा नर्सिंग स्टॉफ और उनके परिवार के लोग पॉजिटिव मिले हैं.

इसके अलावा बोरिंग रोड के एक ही अपार्टमेंट के तीन, बुद्दा कॉलोन के 10, एग्जीबिशन रोड के दो, गांधी मैदान के पांच, फुलवारीशरीफ के पांच, सगुना मोड़ के चार, गोला रोड़ के चार, राजीवनगर के तीन, दीघा कुर्जी के पांच, गर्दनीबाग के तीन लोग संक्रमित मिले हैं. इसके अलावा महेन्दू, कदमकुआं, नाला रोड, नया टोला एएन कॉलेज,बिहटा आदि जगहों में कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं.

विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना के संक्रमण से ज्यादा नुकशान अफवाहों से हो रहा है.कोरोना के संक्रमण का ईलाज घर में भी संभव है.ज्यादातर लोग घरों में ही रहकर स्वस्थ हो रहे हैं.अभीतक इसकी कोई खास दवा नहीं है.सर्दी खांसी और बुखार की दवा से ही कोरोना मरीज ठीक हो रहे हैं.अस्पताल जाने की जरुरत तभी है जब ऑक्सीजन का लेवल 80 से कम आ जाए.सामान्यतः इसे 94 तक रहना चाहिए.

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.