By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

दो श्रमिक स्पेशल ट्रेन तमिलनाडु के तिरूवल्लुर व आंध्रप्रदेश के नेल्लोर से कोडरमा पहुंची

;

- sponsored -

दूसरे राज्यों में फंसे झारखंड के प्रवासी श्रमिकों का अपने घर झारखंड लौटने का सिलसिला जारी है। इसी क्रम में शुक्रवार को दो श्रमिक स्पेशल ट्रेन तमिलनाडु के तिरूवल्लुर व आंध्रप्रदेश के नेल्लोर से कोडरमा पहुंची।

-sponsored-

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव, कोडरमा: दूसरे राज्यों में फंसे झारखंड के प्रवासी श्रमिकों का अपने घर झारखंड लौटने का सिलसिला जारी है। इसी क्रम में शुक्रवार को दो श्रमिक स्पेशल ट्रेन तमिलनाडु के तिरूवल्लुर व आंध्रप्रदेश के नेल्लोर से कोडरमा पहुंची। इन ट्रेनों ने राज्य के 23 जिलों के करीब दो हजार अप्रवासी गृह राज्य पहुंचे। पदाधिकारियों की निगरानी में बसों के माध्यम से अप्रवासियों को उनके गृह जिले में भेजा गया।

शुक्रवार की शाम 4.30 बजे नेल्लोर, आंध्र प्रदेश से चलकर कोडरमा स्टेशन पहुंची ट्रेन में झारखंड के 11 जिलों के 950 प्रवासी श्रमिक मौजूद थे। इसमें 67 श्रमिक कोडरमा जिले के हैं। ट्रेन के कोडरमा पहुंचने पर सभी श्रमिकों को कोच से प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी सुवीर रंजन व पंकज गिरी, रेलवे पुलिस एवं पुलिस जवानों के द्वारा शारीरिक दूरी का पालन करते हुए उतारा गया। सभी श्रमिकों को जिला प्रशासन की ओर से स्वागत किया गया और स्टेशन परिसर में स्वास्थ्य परीक्षण के लिए बने काउंटर में उनकी थर्मल स्कैनिग व स्वास्थ्य जांच संबंधी अन्य सभी प्रक्रियाएं पूरी की गईं।
Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

इस क्रम में कोरोना वायरस से बचाव के लिए श्रमिकों को मास्क दिया गया और उनके हाथों को सैनिटाइजर से साफ कराया गया। अनुमंडल पदाधिकारी विजय वर्मा एवं गोपनीय प्रभारी जयपाल सोय श्रमिक स्पेशल ट्रेन के आगमन लेकर स्टेशन परिसर पर व्यवस्थाओं पर नजर रखे हुए थे। श्रमिकों में सिंहभूम, हजारीबाग, सिंहभूम, चतरा, देवघर, धनबाद, दुमका, जामताड़ा, गिरिडीह, पाकुड़ व कोडरमा के लोग शामिल थे। लॉकडाउन के दौरान दूसरे राज्यों में फंसे प्रवासी श्रमिकों का अपने घर झारखंड लौटने का सिलसिला निरंतर जारी है। इसके पूर्व श्रमिक स्पेशल ट्रेन सुबह 5 बजे तिरुवल्लूर, तमिलनाडु से चलकर कोडरमा स्टेशन पहुंची। श्रमिकों में पलामू, गढ़वा, सिमडेगा, पश्चिमी सिंहभूम, हजारीबाग, रांची, बोकारो, पूर्वी सिंहभूम, चतरा, देवघर, धनबाद, गुमला, दुमका, साहेबगंज, सरायकेला, लातेहार, लोहरदगा, रामगढ़, जामताड़ा, गोड्डा, गिरिडीह, पाकुड़ व खूंटी के लोग शामिल थे।

 

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.