By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

वायरल फीवर ने खोल दी है PMCH की पोल, बुखार से तप रहे बच्चों को लेकर भटक रहे परिजन

PMCH में बुखार से तप रहे बच्चों के इलाज की बात तो दूर मरीजों को नहीं मिल पा रही ट्रॉली-एम्बुलेंस.

HTML Code here
;

- sponsored -

वायरल फीवर ने बिहार में तबाही मचा रखा है. सैकड़ों बच्चे इसकी चपेट में आ चुके हैं और अबतक दो दर्जन से ज्यादा बच्चों की मौत हो चुकी है. वायरल बुखार के बढ़ते मामलों की वजह से राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्था की कलई खुलकर सामने आ गई है.

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव : वायरल फीवर ने बिहार में तबाही मचा रखा है. सैकड़ों बच्चे इसकी चपेट में आ चुके हैं और अबतक दो दर्जन से ज्यादा बच्चों की मौत हो चुकी है. वायरल बुखार के बढ़ते मामलों की वजह से राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्था की कलई खुलकर सामने आ गई है. बिहार के अलग-अलग जिलों से बच्चों को लेकर PMCH आने वाले परिजन परेशान हैं. बुखार से तप रहे बच्चों को लेकर परिवार वाले अस्पताल में भटक रहे हैं. इलाज तो दूर बच्चों के लिए न ट्रॉली है और न ही एम्बुलेंस की व्यवस्था है. बच्चों को बेड तक नहीं मिल पा रहा है.

बिहार के सबसे बड़े अस्पताल PMCH के शिशु वार्ड में 276 बेड है. अस्पताल में लगभग 250 बच्चे भर्ती हो चुके हैं. इसमें 30 से 35 प्रतिशत मामले तेज बुखार वाले हैं. अस्पताल का शिशु इमरजेंसी वार्ड पूरी तरह से फुल है. वायरल बुखार के मामलों में 3 माह से लेकर 12 साल के बच्चे भर्ती हैं. शिशु वार्ड के कर्मियों के अनुसार अस्पताल के शिशु OPD में प्रतिदिन 170 से 200 की संख्या में वायरल बुखार की शिकायत को लेकर मरीज आ रहे हैं. इनमें से 30 से 35 प्रतिशत बच्चों को प्रतिदिन वार्ड में एडमिट करना पड़ रहा है. अस्पताल की बच्चों की बीमारी को लेकर कोई जानकारी भी नहीं दे रहा है.

वायरल फीवर, डेंगू, निमोनिया, मल्टी सिस्टमैटिक इन्फ्लेमेटरी सिंड्रोम, चमकी, टाइफाइड और स्वाइन फ्लू के साथ कई तरह का वायरस से लोग परेशान हैं.। इस बीच में बिहार में चमकी बुखार का कहर बढ़ गया है.एक तो लोग कोरोना की तीसरी लहर को लेकर डरे सहमे हुए हैं दूसरी तरफ वायरल फीवर ने उनकी नींद उड़ा दी है.

HTML Code here
;

-sponsered-

;
HTML Code here

-sponsored-

Comments are closed.