By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

नक्सललियों की मदद करने पर बोकारो के 9 लोगों पर दर्ज होगा राष्ट्रद्रोह का मुकदमा

Above Post Content

- sponsored -

नक्सलियों को मदद करने के मामले में झारखंड के नौ लोगों पर देशद्रोह का मुकदमा चलेगा। इस संबंध में गृह विभाग से स्वीकृति मिल गई है। जिन लोगों के विरुद्ध राष्ट्रद्रोह का मुकदमा चलाने की अनुशंसा की गई है, उनमें बोकारो निवासी उमाशंकर प्रसाद, अभिषेक राज, विनय मोदी, राजेश प्रसाद, सुनील मोदी, देवव्रत, राजेश मोदी, विनोद मोदी और चालक शामिल हैं।

Below Featured Image

-sponsored-

नक्सललियों की मदद करने पर बोकारो के 9 लोगों पर दर्ज होगा राष्ट्रद्रोह का मुकदमा
सिटी पोस्ट लाइव, बोकारो: नक्सलियों को मदद करने के मामले में झारखंड के नौ लोगों पर देशद्रोह का मुकदमा चलेगा। इस संबंध में गृह विभाग से स्वीकृति मिल गई है। जिन लोगों के विरुद्ध राष्ट्रद्रोह का मुकदमा चलाने की अनुशंसा की गई है, उनमें बोकारो निवासी उमाशंकर प्रसाद, अभिषेक राज, विनय मोदी, राजेश प्रसाद, सुनील मोदी, देवव्रत, राजेश मोदी, विनोद मोदी और चालक शामिल हैं। उनके विरुद्ध कांड सत्य साबित भी हो चुका है। इनमें चालक के अलावा उमाशंकर प्रसाद, अभिषेक राज और विनय मोदी को गिरफ्तार किया जा चुका है शेष आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस प्रयासरत है।बोकारो के डीसी कृपानंद झा ने कुख्यात नक्सली अजय महतो और उसके दस्ते को विस्फोटक पहुंचाने में मदद करने वाले नौ लोगों के विरुद्ध राष्ट्रद्रोह का मुकदमा चलाने की स्वीकृति गृह विभाग से मांगी थी, जो मिल चुकी है। बुधवार को उपायुक्त झा ने हिन्दुस्थान समाचार के साथ बातचीत में कहा कि यह नियमित प्रक्रिया के तहत हुआ है। बहुत सी प्राथमिकियां थाने में दर्ज होती हैं, उनमें कुछ में अभियोजन संबंधी लेना अनिवार्य होता है। कुछ धाराओं में उपायुक्त, कुछ में जिला न्यायाधीश तो कुछ में राज्य सरकार को विशेष शक्तियां होती हैं। पुलिस अधीक्षक कार्यालय से विस्फोटक बरामदगी तथा नक्सलियों को सहयोग करने को लेकर राष्ट्रद्रोह का मुकदमा चलाने संबंधी अभियोजन के प्रस्ताव पर राज्य सरकार ने स्वीकृति दे दी है। अब इसमें मुकदमा चलेगा। देशद्रोह का मुकदमा चलाने की स्वीकृति संबंधी प्रशासनिक अनुशंसा को लेकर अनुसंधान शुरू कर दिया गया है।  हालांकि इस मामले में पुलिस अधीक्षक पी. मुरुगन कुछ भी साफ-साफ बताने से जरा बच रहे हैं। कहा, अभी कुछ भी स्पष्ट नहीं बता सकते हैं। सरकार से नावाडीह थाना के तहत दर्ज मामले में राष्ट्रद्रोह मुकदमे को लेकर अभियोजन स्वीकृति मांगी गयी है। मामला अनुसंधानाधीन है। अब चार्जशीट (आरोप-पत्र) तैयार होगा, फिर ट्रायल होगा। उल्लेखनीय है कि 9 मार्च 2019 को डुमरी-नावाडीह मुख्य पथ पर नावाडीह पुलिस और सीआरपीएफ की चेकिंग के दौरान दादुपहरी के समीप सफेद रंग की एक फोर्स कार (बीआर-0पीडी-6021) से 4000 इलेक्ट्रिक डेटोनेटर, 5000 किलोग्राम विस्फोटक और 5000 जिलेटिन की छड़ें बरामद हुई थीं। कार का चालक गिरफ्तार भी किया गया था। सूत्रों की मानें तो गिरफ्तार विनय मोदी के स्वीकारोक्ति बयान के बाद ही पुलिस इस घटना की तह तक पहुंची।

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.