By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

जादू- टोना के आरोप में एक अधेड़ को गाँव के लोगों ने ही पीट-पीटकर मार डाला

;

- sponsored -

आज जहां भारत विकास कि नई उन्च्चाईयों को छू रहा है वहीं कुछ लोग अभी भी अंधविश्वास एवं रूढीवादी मानसिकता के साथ जी रहे हैं. वे स्वयं ही नहीं बल्कि पूरे समाज को अपनी दकियानूसी बातों एवं विचारों से प्रभावित कर रहे हैं. कुछ ऐसी ही घटना घटी है बिहार के औरंगाबाद जिले के मदनपुर थाना अंतर्गत.

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

जादू- टोना के आरोप में एक अधेड़ को गाँव के लोगों ने ही पीट-पीटकर मार डाला

सिटी पोस्ट लाइव- आज जहां भारत विकास कि नई उन्च्चाईयों को छू रहा है वहीं कुछ लोग अभी भी अंधविश्वास एवं रूढीवादी मानसिकता के साथ जी रहे हैं. वे स्वयं ही नहीं बल्कि पूरे समाज को अपनी दकियानूसी बातों एवं विचारों से प्रभावित कर रहे हैं. कुछ ऐसी ही घटना घटी है बिहार के औरंगाबाद जिले के मदनपुर थाना अंतर्गत. जहां जिले के मदनपुर थाना क्षेत्र के नयन बिगहा गांव में एक अधेड़ की गाँव के ही कुछ लोगों ने पीट-पीट कर बलदेव भुइयां की हत्या कर दी.मृतक बलदेव भुइयां झाड़ फूंक का काम किया करता था

घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंची मदनपुर थाने की पुलिस ने शव को कब्ज़े में ले लिया है और पोस्टमॉर्टम के लिए उसे औरंगाबाद सदर अस्पताल भेज दिया है. इस बीच पुलिस ने गांव के पांच लोगों को हिरासत में भी लिया है और उनसे पूछताछ कर रही है. जानकारी के मुताबिक गांव के ही वृक्ष भुइयां की बीती रात किसी बीमारी से मौत हो गई थी जिसके बाद वृक्ष के परिजनों ने आज दिन में बलदेव पर जादू-टोना कर देने का आरोप लगाते हुए उसकी बड़ी ही बेरहमी से पिटाई कर दी जिससे कि मौके पर ही उसकी मौत हो गई.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

औरंगाबाद के एसडीपीओ अनुप कुमार ने बताया कि पुलिस फिलहाल मामले की पड़ताल करने के साथ ही नामजद आरोपियों की धर पकड़ में जुटी है. बता दें कि बिहार के बहुत से गाँवों में अभी भी लोग जादू-टोने जैसे अंधविश्वास पर भरोसा करते हैं और ऐसे बाबाओं और झाड़ -फूंक करनेवाले के पास जाते हैं.जिससे कई बार तो इनसब के बीच मरीज की उचित चिकित्सा न होने कारण मृत्यू भी हो जाती है.
                                                                                                                                                                   जे.पी.चंद्रा की रिपोर्ट

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.