By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

गैंगरेप के बाद युवती 5 दिन तक FIR करने के लिए भटकती रही थाने में

;

- sponsored -

बिहार के सुपौल जिले में एक बार फिर से पुलिस के मनमानी का मामला सामने आया है. घटना सुपौल जिले के छातापुर थाना क्षेत्र से जुड़ा है जहां एक युवती से दो दिनों तक दो युवकों ने लगातार बलात्कार किया. लेकिन जब युवती थाने में इन बलात्कारियों के खिलाफ मुकदमा करने के पहुँची तो FIR दर्ज करने के लिए उसे पांच दिन तक भटकना पड़ा.

-sponsored-

-sponsored-

गैंगरेप के बाद युवती 5 दिन तक FIR करने के लिए भटकती रही थाने में

सिटी पोस्ट लाइव-बिहार के सुपौल जिले में एक बार फिर से पुलिस के मनमानी का मामला सामने आया है. घटना सुपौल जिले के छातापुर थाना क्षेत्र से जुड़ा है जहां एक युवती से दो दिनों तक दो युवकों ने लगातार बलात्कार किया. लेकिन जब युवती थाने में इन बलात्कारियों के खिलाफ मुकदमा करने के पहुँची तो FIR दर्ज करने के लिए उसे पांच दिन तक भटकना पड़ा. वो भी FIR दर्ज बीरपुर एएसपी की पहल पर किया गया.

इस घटना को अंजाम 23 जून को 18 वर्षीय युवती का अपहरण कर गाँव के ही दो युवकों ने दिया है. दो दिनों तक लगातार दुष्कर्म करने के बाद दोनों युवकों ने 25 जून को छातापुर के क्वाटर चौक पर उतारकर फरार हो गए. इसके बाद इस मामले को लेकर पीड़िता द्वारा छातापुर थाना में आवेदन भी दिया गया, जिसमें लिखा गया कि 23 जून को लगभग 10 बजे दिन में गांव के ही मोहम्मद सरफराज एवं करीमन मोहम्मद बबलू साफी द्वारा घर के निकट से ही जबरन उसका हथियार के बल पर अपहरण कर लिया गया.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

सुपौल की ओर ले जाकर अज्ञात स्थान पर उक्त दोनों युवकों ने उसके साथ दो दिन तक बारी-बारी से दुष्कर्म किया. वहीं पीड़िता को जान से मारने की धमकी भी देते रहे. दो दिनों बाद 25 जून को आरोपी दोनों युवकों ने उसे मधुबनी पंचायत के क्वाटर चौक एनएच 57 पर छोड़ दिया और वहां से फरार हो गए. पीड़िता ने कहा कि वहां से वो किसी तरह अपने घर लौटी. इस बीच उसके पिता ने 24 जून को अपने पुत्री के अपहरण हो जाने का लिखित आवेदन छातापुर थाना में दिया था लेकिन थानाध्यक्ष द्वारा दो दिनों तक अपहरण का मामला नहीं दर्ज किया गया.

बाद में जब युवती बार-बार थाने पहुंचने लगी तो थक हार कर छातापुर थाना अध्यक्ष राधव शऱण ने आवेदन तो लिया पर उस पर आवेदन बदलने का दबाव देने लगे. पीड़िता का कहना है कि डीएसपी बीरपुर से मोबाइल पर शिकायत करने के बाद थानाघ्यक्ष ने 28 जून की तारीख में मामला दर्ज किया.इस घटना के बाद से युवती के सभी परिवार काफी डरे हुए हैं और प्रशासन से सुरक्षा की गुहार लगाई है.                                                                                                                                                                                                       जे.पी.चंद्रा की रिपोर्ट 

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.