By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

पूरी तरह से दावं पर लग गया है अनंत सिंह का पोलिटिकल करियर

- sponsored -

अगर अनंत सिंह यूएपीए के तहत दोषी पाए जाते हैं तो उन पर न केवल देशद्रोह का मुकदमा चलेगा, बल्कि उनका पॉलिटिकल करियर भी तबाह हो जाएगा. पंद्रह साल से मोकामा के विधायक चुने जा रहे अनंत इस कार्रवाई के बाद आजीवन चुनाव भी नहीं लड़ सकेंगे. एके-47 और हैंड ग्रेनेड जैसे हथियार मिलने के बाद इस केस की जांच में स्पेशल टास्क फोर्स के साथ ही एनआईए की टीम और सेना के अधिकारी भी लगे हुए हैं.अब अनंत सिंह का बचना नामुमकिन है.

पूरी तरह से दावं पर लग गया है अनंत सिंह का पोलिटिकल करियर

सिटी पोस्ट लाइव ; शनिवार को अनंत सिंह पटना पुलिस के हाथ तो नहीं आये लेकिन अब उनका बच पाना बेहद मुश्किल है.छोटे सरकार के नाम से कुख्यात बिहार के मोकामा के बाहुबली विधायक  एक बार फिर से गंभीर संकट में फंस गए हैं. इस बार उनपर एके-47 (AK-47) और हैंड ग्रेनेड (Hand Grenade) जैसी खतरनाक चीजें रखने का आरोप लगा है. इस मामले में उनकी गिरफ्तारी (Arresting) भी तय मानी जा रही है.

वैसे तो अनंत सिंह के खिलाफ 50 से ज्यादा अपराधिक मामले दर्ज हैं फिर भी वो जेल से बाहर हैं. लेकिन इसबार उनके ऊपर कानून का शिकंजा इस कदर कसा है कि उनके पुरे कुनबे के बर्बाद हो जाने का रास्ता तैयार हो गया है.अनंत सिंह के खिलाफ पुलिस यूएपीए के तहत भी कार्रवाई करेगी . निर्दलीय विधायक अगर यूएपीए के तहत दोषी पाए जाते हैं तो उन पर न केवल देशद्रोह का मुकदमा चलेगा, बल्कि उनका पॉलिटिकल करियर भी तबाह हो जाएगा. पंद्रह साल से मोकामा के विधायक चुने जा रहे अनंत इस कार्रवाई के बाद आजीवन चुनाव भी नहीं लड़ सकेंगे. एके-47 और हैंड ग्रेनेड जैसे हथियार मिलने के बाद इस केस की जांच में स्पेशल टास्क फोर्स के साथ ही एनआईए की टीम और सेना के अधिकारी भी लगे हुए हैं.

Also Read

-sponsored-

हथियार बरामदगी के बाद अनंत सिंह के खिलाफ आर्म्स एक्ट, गैरकानूनी गतिविधियों में संलग्न रहने और और विस्फोटक अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है. अनंत के खिलाफ इस एक्ट के तहत कार्रवाई होना तय माना जा रहा है .अनंत सिंह बिहार के पहले जन-प्रतिनिधि होगें जिनके खिलाफ यूएपीए जैसे अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है.

अनंत सिंह शुरू से ही हथियारों के शौक़ीन रहे हैं. सोशल मीडिया में अक्सर AK -47 लहराते हुए उनकी तस्वीरें वायरल होती रही हैं. लेकिन तब सरकार के साथ थे इसलिए कभी कोई बड़ी कारवाई नहीं हुई. कभी उनसे ये नहीं पूछा गया कि उनके पास AK-47 कहाँ से आया? लेकिन अब जब सरकार उनके खिलाफ है और उनके घर से AK-47 हैंड ग्रेनेड वरामद हो गया है, उनका बच पाना मुश्किल हो गया है.पुलिस मुख्यालय पूरे मामले पर नजर बनाए हुए है.पटना पुलिस के सीनियर अधिकारी की मानें तो इस मामले में विधायक के साथ-साथ उनके परिवार के सदस्यों की गिरफ्तारी भी हो सकती है.

जिस तरह से अनंत सिंह पुलिस और गिरफ्तारी के डर से घर छोड़कर नहीं भागने के दावे कर रहे थे, पटना पु अब अनंत सिंह अंडरग्राउंड हो चुके हैं. उनकी गिरफ्तारी के लिए जगह जगह पर छापेमारी की जा रही है. सवाल ये उठता है कि पटना पुलिस की हर गतिविधि से अनंत सिंह कैसे वाकिफ थे? क्या पुलिस महकमे में भी अनंत के शुभचिंतक बैठे हुए हैं?ने अनंत को  इन सारे सवालों का अबतक जबाब नहीं मिला है. अनंत सिंह की गिरफ्तारी के बाद ही इस राज से पर्दा उठ सकता है.

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.