By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

पंजाब के सीएम की पत्नी परनीत कौर से हुई ठगी मामले में बड़ा खुलासा

साइबर अपराधियों ने एक महीने में जाली खातों में पांच  करोड़ की ट्रांजेक्शन की

- sponsored -

झारखंड के साइबर अपराधियों ने पिछले 1 महीने में जाली खातों से 5 करोड़ की ट्रांजेक्शन की है , जिसमें उनका साथी फिनो पेमेंट बैंक लिमिटेड मंडी गोबिंदगढ़ ब्रांच मैनेजर अशीष कुमार भी शामिल था।

पंजाब के सीएम की पत्नी परनीत कौर से हुई ठगी मामले में बड़ा खुलासा

सिटी पोस्ट लाइव, रांची: झारखंड के साइबर अपराधियों ने पिछले 1 महीने में जाली खातों से 5 करोड़ की ट्रांजेक्शन की है , जिसमें उनका साथी फिनो पेमेंट बैंक लिमिटेड मंडी गोबिंदगढ़ ब्रांच मैनेजर अशीष कुमार भी शामिल था। इन्होंने ही  सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह की पत्नी परनीत कौर के खाते से 23 लाख रुपए की ऑनलाइन ठगी की थी । पकड़े जाने के बाद उन्होंने यह जानकारी पंजाब के पटियाला पुलिस को दी । इस मामले में जानकारी देते हुए एसएसपी मनदीप सिद्धू ने बताया कि मैनेजर अशीष कुमार द्वारा खोले गए 215 फर्जी अकाउंट में से इन दोनों ने 5 करोड़ 23 लाख 68 हजार  999 निकाले हैं अब तक मिली जानकारी के अनुसार एसएसपी ने बताया कि पटियाला पुलिस की ओर से पिछले दिनों बैंक खातों में ऑनलाइन ठगी करने वाले गिरोह के खिलाफ थाना सिविल लाइन में केस दर्ज करके एक अंतरराज्यीय गिरोह से संबंधित झारखंड व पंजाब के रहने वाले अफसर अली व नूर अली और अताउल अंसारी को गिरफ्तार किया गया था। आरोपियों ने सांसद परनीत कौर के साथ 23 लाख की साइबर ठगी की थी। इन आरोपियों से पूछताछ के आधार पर फीनो पेमेंट बैंक लिमिटेड की मंडी गोबिंदगढ़ ब्रांच के मैनेजर आशीष कुमार निवासी चांद कालोनी लुधियाना को रविवार को गिरफ्तार किया गया है। पूछताछ में मैनेजर ने बताया कि उसने बैंक में नवंबर 2018 में मंडी गोबिंदगढ़ में बतौर मैनेजर ज्वाइन किया था। उसकी जान-पहचान आरोपी अफसर अली से हुई थी। जिस पर उन्होंने आपस में मिलकर आम लोगों के फर्जी बैंक खाते खोलने शुरू कर दिए। इस खुलासे के बाद पुलिस ने फीनो पेमेंट बैंक लिमिटेड मंडी गोबिंदगढ़ ब्रांच के मैनेजर आशीष कुमार को गिरफ्तार किया है। साथ ही बैंक के करीब 215 अकाउंट फ्रीज कर दिए हैं। यह खाते अफसर अली ने बड़ी ही चालाकी साथ लोगों से उनकी जानकारी के बिना खोले थे। जब लोग आरोपी पास अपने गुम हुए आधार कार्ड की कापी निकलवाने के लिए आते थे, तो यह उस व्यक्ति का आधार कार्ड का नंबर लेकर और बायोमैट्रिक प्रणाली जरिये उसका अंगूठा लेकर आधार कार्ड प्रिंट करता था।साथ ही उस व्यक्ति का फीनो बैंक में खाता खोल देता था। आरोपी उस खाते में अपना फर्जी नंबर रजिस्टर कर देता था और खाता खोलने समय जरूरी रकम अपने पास से डाल देता था। इस दौरान आरोपी अफसर अली अपने दूसरे साथियों अताउल अंसारी निवासी जामताड़ा झारखंड और कुट बुल निवासी झारखंड से भी संपर्क में था। इस केस में अताउल अंसारी को प्रोडक्शन वारंट पर लाया जा रहा है। आरोपियों से इन फर्जी बैंक खातों में बड़े स्तर पर पैसों की हुई ट्रांजेक्शन बारे गहनता से पूछताछ की जाएगी। पुलिस ने अफसर अली, अताउल अंसारी, बैंक के स्टाफ व गिरोह के अन्य साथियों खिलाफ थाना सिविल लाइन में केस दर्ज कर लिया है।

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.