By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

नौकरी जाने के डर से झारखण्ड के BJP नेता के बेटे ने की खुदकुशी?

Above Post Content

- sponsored -

झारखंड सरकार द्वारा बिजली की दरों में वृद्धि और टाटा से जुड़ी कंपनियों मे लगातार क्लोजर के कारण पिछले कुछ दिनों के दौरान झारखंड की तीन दर्जन से अधिक कंपनियां एक अगस्त से बंद हो गई हैं.इन कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को अगस्त का वेतन दिया है लेकिन सितंबर से उनका घर कैसे चलेगा, यह बताने वाला कोई नहीं है.

Below Featured Image

-sponsored-

नौकरी जाने के डर से झारखण्ड के BJP नेता के बेटे ने की खुदकुशी?

सिटी पोस्ट लाइव :‘टाटा मोटर्स’ के लिए जॉबवर्क करने वाली कंपनी ‘आटोमैटिक एक्सेल’ में काम करने वाले : 26 साल के कुमार आशीष ने खुदकुशी कर ली है. झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास के विधानसभा क्षेत्र के BJP के बारीडीह मंडल के आईटी सह-संयोजक कुमार विश्वजीत के बेटे कुमार आशीष ने शुक्रवार को खुदकुशी कर ली.

26 साल के कुमार आशीष अपनी मौत से महज एक घंटे पहले वे अपनी पत्नी से मिलने उनके कॉलेज गए थे. इसके बाद वे अपने दोस्तों के साथ भी घूमते रहे.फिर घर लौटे और पंखे से लटक कर अपनी जान दे दी. उन्हें कथित तौर पर इस बात की चिंता थी कि ऑटो सेक्टर में आई मंदी के कारण कहीं उनकी नौकरी भी ना चली जाए. उन्होंने अपनी पत्नी और दोस्तों को इस बात की भनक नहीं लगने दी कि वे तनाव में हैं. उन्होंने कोई सुसाइड नोट भी नहीं छोड़ा है. अब पुलिस इस बात की तहकीकात कर रही है कि उनकी खुदकुशी की असली वजह क्या है.

Also Read
Inside Post 3rd Paragraph

-sponsored-

जमशेदपुर के एसपी सुभाष चंद्र जाट के अनुसार जॉब इनसिक्योरिटी लेकर संभवतः कुमार आशीष ने खुदकुशी की है. हालांकि कुमार आशीष कल भी अपने दफ्तर गए थे. लिहाजा, खुदकुशी की मूल वजह का पता करने में पुलिस जुटी हुई है.

आशीष के पिता कुमार विश्वजीत भी बीजेपी के सदस्य होने के साथ ही टाटा स्टील के लिए कॉन्ट्रेक्ट पर काम करते हैं. उन्होंने बताया कि उनकी कंपनी (टिस्को) में भी ट्रेनिंग के बाद टेस्ट लिया जा रहा है.”ट्रेनिंग की प्रक्रिया पूरी कर पाना थोड़ा कठिन है. कर्मचारियों को डर है कि अगर टेस्ट में फेल हुए, तो अगले दिन उनका गेट पास बनेगा या नहीं. ऐसे में उन्हें अपनी नौकरी को लेकर भी चिंता है.”

कुमार विश्वजीत ने बताया कि कुछ दिन पहले घर मे परिवार के लोगों ने आपस में यह बात की थी कि अगर मेरी नौकरी चली जाए, तब घर कैसे चलेगा. तभी मेरे बेटे ने कहा कि उसकी नौकरी को भी ख़तरा है.”लेकिन, यही उसकी खुदकुशी का कारण होगा, निश्चितरूप से यह हम नहीं कह सकते. क्योंकि, उसने परिवार में किसी से इस संबंध में कोई बातचीत नहीं की थी. आशीष ने अपनी पत्नी तक से कुछ नहीं कहा था. ऐसे में फिलहाल यह बता पाना मुश्किल है कि उसने अचानक से मौत का रास्ता क्यों चुन लिया.”

कुमार आशीष की पत्नी ज्योति सदमे में हैं. महज एक साल पहले जून-2018 में आशीष से उनका प्रेम विवाह हुआ था. पिछले 8 अगस्त को उनका जन्मदिन था.ज्योति जमशेदपुर के गोलमुरी अब्दुल बारी कॉलेज में काम करती हैं. शुक्रवार सुबह दस बजे अपने दफ्तर जाते वक्त उनके पति ने ही उन्हें कालेज छोड़ा था और दोपहर तीन बजे कुछ ज़रूरी स्टेशनरी देने दोबारा उनके कॉलेज गए थे. वही उनकी आख़िरी मुलाकात बन गई.

इससे पहले भी जमशेदपुर के ही एक युवा इंजीनियर प्रभात कुमार उर्फ राजा ने अपनी नौकरी जाने के बाद बर्मा माइंस इलाक़े में खुद को आग लगाकर अपनी जान दे दी थी.वो इंपीरियल ऑटो इंडस्ट्री में इंजीनियर थे. वह कंपनी भी टाटा मोटर्स के लिए जॉबवर्क करती थी. टाटा मोटर्स में क्लोज़र के कारण उनकी कंपनी ने भी उन्हें नौकरी से निकाल दिया था.झारखंड सरकार ने उन्हें प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहद ट्रेनिंग दिलवायी थी. उनके पिता तारकनाथ भी टाटा स्टील के कर्मचारी थे. रिटायरमेंट के बाद वो आटो चलाते हैं.

झारखंड सरकार द्वारा बिजली की दरों में वृद्धि और टाटा से जुड़ी कंपनियों मे लगातार क्लोजर के कारण पिछले कुछ दिनों के दौरान झारखंड की तीन दर्जन से अधिक कंपनियां एक अगस्त से बंद हो गई हैं.इन कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को अगस्त का वेतन दिया है लेकिन सितंबर से उनका घर कैसे चलेगा, यह बताने वाला कोई नहीं है. कहा जा रहा है कि इस बंदी से करीब 50 हजार लोग प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तौर पर बेरोजगार हो गए हैं.

टाटा मोटर्स में अभी भी (17 अगस्त तक) क्लोजर है. कंपनी में उत्पादन अब 19 अगस्त से हो पाएगा. इस कारण टाटा समूह के लिए काम करने वाली कंपनियों के अस्तित्व पर संकट आ गया है.

Below Post Content Slide 4

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.