By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

आज CBI अदालत में चिदंबरम की पेशी, पूछताछ के लिए लिए जायेगें रिमांड पर

- sponsored -

पूर्व वित् मंत्री चिदंबरम बुधवार की रात गिरफ्तार कर लिए गए. आज गुरुवार क़रीब दो बजे दिन में सीबीआई की विशेष अदालत में चिदंबरम को पेश किया जाएगा. शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में अग्रिम ज़मानत की याचिका पर जो सुनवाई होनी थी अब उसके कोई मायने नहीं हैं क्योंकि चिदंबरम आधिकारिक तौर पर गिरफ़्तार हो चुके हैं. सीबीआई अदालत से चिदंबरम की कस्टडी की ये कहते हुए मांग करेगी कि उन्हें चिदंबरम से कई अहम पूछताछ करनी है.

आज CBI अदालत में चिदंबरम की पेशी, पूछताछ के लिए लिए जायेगें रिमांड प

दिल्ली से  नेहा सिंह की रिपोर्ट 

सिटी पोस्ट लाइव : केंद्रीय जाँच एजेंसी सीबीआई ने पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को बड़े नाटकीय तरीक़े से बुधवार रात गिरफ़्तार कर लिया. बुधवार देर शाम बहुत ही ड्रामाई अंदाज़ में सीबीआई ने चिदंबरम के दिल्ली स्थित घर से उन्हें गिरफ़्तार किया. उन पर आईएनएक्स मीडिया केस में भ्रष्टाचार में लिप्त होने के आरोप हैं.गिरफ्तार करने के बाद उन्हें सीबीआई दिल्ली के लोदी कॉलोनी स्थित मुख्यालय ले गई. उन्हें गुरुवार दोपहर को सीबीआई की अदालत के सामने पेश किया जाएगा.

Also Read

-sponsored-

सीबीआई उनके बेटे कार्ति चिदंबरम को भी पूछताछ में शामिल कर सकती है.कार्ति चिदंबरम ने अपने पिता की गिरफ़्तारी को राजनीति से प्रेरित क़रार दिया है. चेन्नई में पत्रकारों से बात करते हुए कार्ति ने कहा कि कुछ ख़ास लोगों को ख़ुश करने के लिए उनके पिता को गिरफ़्तार किया गया है.कार्ति ने कहा कि ये पूरी तरह से राजनीति से प्रेरित मामला है. ये साल 2008 का मामला है जिस पर 2017 में एफ़आईआर दर्ज की गई थी. इस मामले में ख़ुद मुझ पर सीबीआई ने चार बार छापा मारा था. मैं एजेंसियों के सामने 20 बार पेश हो चुका हूं और हर बार कम से कम 10 घंटे तक मुझ से पूछताछ हुई थी. मैं सीबीआई के पास 11 दिनों तक रहा था.

उन्होंने कहा कि यह कारवाई राजनीति से प्रेरित है इसी बात से पता चलता है कि यह मामला जो 2008 में हुआ और जिसके लिए 2017 में एफ़आरआई दर्ज की गई, और अगस्त 2019 में भी उस बारे में चार्जशीट नहीं दाख़िल की जा सकी है. इसका मतलब साफ़ है कि ये कोई केस ही नहीं है. सिर्फ़ कुछ लोगों को ख़ुश करने के लिए ये पूरा नाटक और तमाशा किया जा रहा है. गंभीर मुद्दों से भारत के लोगों का ध्यान हटाने के लिए ये सबकुछ किया जा रहा है. ये पूरी तरह से मनगढ़ंत मामला है जिसे टीवी और मीडिया के लिए किया जा रहा है.

कांग्रेस पार्टी पूरी तरह से चिदंबरम के समर्थन में खड़ी दिख रही है. बुधवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी ने उनके समर्थन में ट्वीट किया था. गिरफ़्तारी के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता और मीडिया प्रमुख रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट किया कि बीजेपी के हाथों लोकतंत्र मर चुकी है.लेकिन बीजेपी के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी शुरू से ही इस मामले में चिदंबरम को दोषी मानते रहे हैं. बुधवार को चिदंबरम की गिरफ़्तारी से पहले उन्होंने ट्वीट किया कि चिदंबरम को भगोड़ा घोषित करते हुए उनकी सारी संपत्ति ज़ब्त कर लेनी चाहिए.

चिदंबरम की गिरफ़्तारी के बाद बीजेपी आईटी सेल के अध्यक्ष अमित मालवीय ने एक वीडियो ट्वीट किया जिसमें अप्रैल 2019 में नरेंद्र मोदी एक चुनावी रैली के दौरान कह रहे थे कि ”जिन्होंने देश को लूटा है, उनको पाई-पाई लौटानी पड़ेगी. ‘उसी वीडियो में मोदी कह रहे हैं कि वो कैसे उन कथित भ्रष्ट लोगों को जेल के दरवाज़े तक ले आए हैं और अगर उन्हें एक और मौक़ा मिले तो ये सब लोग जेल में होंगे.

लेकिन सीबीआई ने जिस तरह से चिदंबरम को गिरफ़्तार किया उसको लेकर भी कई आवाज़ें उठ रही हैं. सीबीआई के पूर्व संयुक्त निदेशक एनके सिंह के अनुसार इस तरह से चिदंबरम को गिरफ़्तार किया जाना सीबीआई की ज़्यादती है. क़ानून की नज़र में सब बराबर है. लेकिन केस को देखना पड़ेगा कि केस है क्या. केस बहुत पुराना है. 10 साल के बाद 2017 में केस रजिस्टर किया गया. इंद्राणी मुखर्जी जो ख़ुद अपनी लड़की की हत्या के आरोप में जेल में बंद हैं और उनके ख़िलाफ़ मुक़दमा चल रहा है. वो इस केस में सीबीआई के कहने पर सरकारी गवाह बन जाती हैं और उनके बयान पर चिदंबरम के ख़िलाफ़ इस मामले की जांच हो रही है. जांच को पूरा किया जाता, अदालत के सामने रखा जाता. ये जो अभियोग है उसकी गंभीरता को देखते हुए. पुराना मामला है और इसका जो आधार है उन सारी बातों को देखते हुए मुझे तो लगता है कि ये सीबीआई का ऐक्सेसिव एक्शन यानी अत्यधिक कार्रवाई है.”

चिदंबरम के समर्थकों का आरोप है कि सीबीआई को 36 घंटे रुकने में आख़िर क्या परेशानी थी. सुप्रीम कोर्ट शुक्रवार को चिदंबरम की अग्रिम ज़मानत की याचिका पर सुनवाई करने वाली थी. सीबीआई अभी तक चार्जशीट भी फ़ाइल नहीं कर सकी है, अदालत में भी मामला आठ महीने से लटका हुआ था, फिर अचानक सबकुछ तेज़ी से होने लगता है.

कांग्रेस के नेताओं का आरोप है कि ये मामला अब पूरी तरह राजनीतिक बन गया है. मोदी जनता को संदेश देना चाहते हैं कि वो ताक़तवर से ताक़तवर लोगों को जेल भेज सकते हैं. यह राजनीतिक बदले की कार्रवाई है क्योंकि चिदंबरम मोदी सरकार पर हमले कर रहे थे.

गौरतलब है कि मंगलवार (20 अगस्त) को दिल्ली हाई कोर्ट ने चिदंबरम की अग्रिम ज़मानत की याचिका को ख़ारिज कर दिया था. आईएनएक्स मीडिया से जुड़े भ्रष्टाचार मामले में अभियुक्त बनाए गए चिदंबरम ने अग्रिम ज़मानत के लिए हाई कोर्ट में अपील की थी. अपील ख़ारिज होने के बाद चिदंबरम के वकीलों ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाने का फ़ैसला किया. सुप्रीम कोर्ट ने तत्काल सुनवाई से इनकार करते हुए मामले को बुधवार को उपयुक्त बेंच के सामने ले जाने को कहा

लेकिन इसी बीच सीबीआई और ईडी मंगलवार देर रात उनके घर पहुंची. चिदंबरम घर पर नहीं थे तब सीबीआई ने उनके घर पर नोटिस लगा दिया और दो घंटे के अंदर हाज़िर होने को कहा. बुधवार को दिन भर ये ख़बर चलती रही कि चिदंबरम लापता हैं और सीबीआई उनकी तलाश कर रही है. बुधवार दिनभर चिदंबरम के वकील सुप्रीम कोर्ट में अग्रिम ज़मानत की अपील करते रहे लेकिन सुप्रीम कोर्ट से भी उन्हें कोई ख़ास राहत नहीं मिली.

आख़िरकार बुधवार शाम पांच बजे के क़रीब सुप्रीम कोर्ट ने चिदंबरम की अपील स्वीकार तो कर ली लेकिन शुक्रवार को इस पर सुनवाई करने का फ़ैसला किया. अब सबके सामने यही सवाल था कि सीबीआई शुक्रवार तक इंतज़ार करेगी या उन्हें गिरफ़्तार करने की कोशिश जारी रखेगी. इस बीच किसी को ख़बर नहीं थी कि चिदंबरम कहां हैं.

अचानक क़रीब आठ बजे शाम चिदंबरम कांग्रेस मुख्यालय पहुंचे. इस केस में उनके वकील और पार्टी के सहयोगी कपिल सिब्बल, सलमान ख़ुर्शीद, अभिषेक मनु सिंघवी भी कांग्रेस दफ़्तर में उनके साथ थे. चिदंबरम ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि वो क़ानून से भागे नहीं हैं बल्कि अपने हितों की रक्षा के लिए क़ानून की शरण में गए हैं.

अपने छोटे से बयान पढ़ने के बाद पत्रकारों के किसी भी सवाल का जवाब दिए बग़ैर चिदंबरम अपने घर चले गए. उनके घर पहुंचने के कुछ ही मिनटों बाद सीबीआई की टीम उनके घर पहुंच गई. घर का दरवाज़ा बंद था. सीबीआई के अधिकारी घर का दरवाज़ा फांदकर घर में दाख़िल हुए और चिदंबरम को लेकर सीबीआई मुख्यालय चले गए. वहीं उनका मेडिकल कराया गया और फिर सीबीआई ने उन्हें आधिकारिक तौर पर गिरफ़्तार कर लिया.

आज गुरुवार क़रीब दो बजे दिन में सीबीआई की विशेष अदालत में चिदंबरम को पेश किया जाएगा. शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में अग्रिम ज़मानत की याचिका पर जो सुनवाई होनी थी अब उसके कोई मायने नहीं हैं क्योंकि चिदंबरम आधिकारिक तौर पर गिरफ़्तार हो चुके हैं. सीबीआई अदालत से चिदंबरम की कस्टडी की ये कहते हुए मांग करेगी कि उन्हें चिदंबरम से कई अहम पूछताछ करनी है.

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.