By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

महिला नक्सली का खुलासा, सुविधाओं का सब्जबाग दिखाकर होता था शारीरिक शोषण

Above Post Content

- sponsored -

डीआईजी राजकुमार लकड़ा के समक्ष तीन महिला समेत छह नक्सलियों ने सोमवार को  आत्मसमर्पण किया। आत्मसर्पण करने वाली महिला नक्सलियों ने संगठन के खिलाफ कई चौंकाने वाले खुलासे किए।

Below Featured Image

-sponsored-

महिला नक्सली का खुलासा, सुविधाओं का सब्जबाग दिखाकर होता था शारीरिक शोषण

सिटी पोस्ट लाइव, दुमका: डीआईजी राजकुमार लकड़ा के समक्ष तीन महिला समेत छह नक्सलियों ने सोमवार को  आत्मसमर्पण किया। आत्मसर्पण करने वाली महिला नक्सलियों ने संगठन के खिलाफ कई चौंकाने वाले खुलासे किए। महिला नक्सली का कहना है कि सुविधाओं का सब्जबाग दिखाकर संगठन में शामिल कराया जाता है लेकिन उसके बाद पुरुष नक्सलियों की हवस का शिकार होना पड़ता है। संगठन में महिलाओं का शारीरिक शोषण किया जाता है। महिला नक्सलियों को लेवी का कोई अंश नहीं दिया जाता था। आत्मसमर्पण करने वाली तीन महिला नक्सलियों में किरण दी नक्सली ताला दा की पत्नी हैं। किरण दी पर पांच लाख रुपये का इनाम घोषित है। ये सभी दुमका के साथ-साथ संथाल परगना के अन्य जिलों में सक्रिय थे। इसके अलावा आत्मसमर्पण करने वालों में दुमका जिले के काठीकुंड थाना क्षेत्र के महुआगढ़ी गांव निवासी पीसी दी उर्फ प्रीशिला देवी उर्फ सावड़ी सिंह, छोटा तेतुलमाठ गांव निवासी सुखलाल देहरी उर्फ कंदरा देहरी, शिकारीपाड़ा थाना क्षेत्र के धर्मपुर गांव निवासी प्रेमशीला उर्फ होपन टी, शंकरपुर मलूटी के भगत सिंह उर्फ भगत सिंह हेम्ब्रम उर्फ बाबुराम हेम्ब्रम और सिदो मरांडी उर्फ कन्हु शामिल हैं।

एके-47 सहित अन्य हथियारों के साथ आत्मसमर्पण

Also Read
Inside Post 3rd Paragraph

-sponsored-

आत्मसमर्पण करने वाले नक्सलियों में भगत सिंह किस्कू ने राइफल, सुखलाल देहरी लोडेड पिस्टल, किरण उर्फ पक्कु टुडू ने कारबाईन, पीसी दी उर्फ प्रीशीला देवी ने एके-47 एवं सिद्धो मरांडी ने इंसास राइफल के साथ आत्मसमर्पण किया। एसपी वाई एस रमेश ने बताया कि समर्पित किए गए हथियार, पुलिस पर हमलाकर लूटे गये हैं। पुलिस बरामद हथियारों की जांच कर रही है।

किस पर कितना था घोषित इनाम

आत्मसमर्पण करने वाले 6 नक्सलियों में तीन महिला नक्सलियों में तीनों ईनामी नक्सली थीं। पीसी दी उर्फ प्रीशिला देवी उर्फ सावड़ी सिंह पर पांच लाख रुपये का इनाम था। किरण टुडू उर्फ पक्कू टुडू उर्फ उषा उर्फ फुलीन टुडू पांच लाख रुपये, सिद्धो मरांडी उर्फ कन्हू पर एक लाख रुपए एवं प्रेमशीला उर्फ होपन टी पर एक लाख रुपए का इनाम घोषित था।

सरकार की पुनर्वास नीति

सरकार की पुनर्वास नीति के तहत चार डिसमील जमीन, पीएम आवास योजना का लाभ, एक वर्ष के लिए 6 हजार प्रतिमाह व्यवसायिक प्रशिक्षण के लिए, परिवारिक निःशुल्क चिकित्सा, बच्चों की शिक्षा के लिए स्नातक तक 40 हजार रुपए वार्षिक, मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत बच्चियों की शादी के लिए 30 हजार रुपए, स्वरोजगार के लिए 4 लाख रुपए का कर्ज, 5 लाख का जीवन बीमा, एक लाख का परिवारिक समूह जीवन बीमा, खुला जेल सह पुर्नवास केंद्र की सुविधा दी जानी है।

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.