By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

PMCH में दिनदहाड़े गोलीबारी, अपराधियों ने तीन लोगों को मारी गोली.

HTML Code here
;

- sponsored -

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव : बिहार के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल यानी पीएमसीएच, पटना (Patna PMCH) परिसर में हथिायरबंद अपराधियों  ने मंगलवार दोपहर से लेकर देर शाम तक गुंडागर्दी कर सुशासन की धज्जियाँ उड़ा दी.दिन दहाड़े सबके सामने तीन लोगों को गोली से उड़ा दिया. घटनास्थल के पास ही पटना पुलिस का टीओपी भी है लेकिन आरोपी हाथ नहीं आये.पुलिस के अनुसार एक घायल  युवक का नाम शोएब है. गोलीबारी की इस घटना में एक मरीज के परिजन के भी जख्मी होने की खबर है.

दरअसल एक माह पहले अपराधियों ने शोएब के  चचेरे भाई मोहम्मद  अलाउद्दीन की गुलबी घाट पर गोली मारकर  हत्या कर दी थी. बिकाऊ भी पीएमसीएच में एंबुलेंस चलवाता था. बिकाऊ और शोएब दोनों चचेरे भाई हैं. शोएब ने बिकाऊ की मौत के बाद उसकी जगह ले ली और वह एंबुलेंस चलावने लगा.फिर क्या था इसी को लेकर विवाद हुआ और दोनों गुट के बीच मंगलवार को गोलीबारी हो गई. इसी काे लेेकर विराेधी गुट के एंबुलेंस चलवाले वाले ने उसे मंगलवार काे गाेली मार हत्या करने की काेशिश की.गोली मारने का  आरोप बिकाऊ व शोएब  के रिश्तेदार परवेज और फिरोज पर लगा है. पुलिस इन दोनों को  गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी करने में जुटी है.

पटना एसएसपी उपेंद्र कुमार शर्मा के अनुसार पीएमसीएच में दो बार गोलीबारी हुई है.तीन लोग घयल हुए हैं. इनमें एक मरीज की परिजन भी है.गोली  चलाने वाले अपराधियों का नाम सामने आया है. पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी करने में जुटी है. पीएमसीएच में पुलिस की तैनाती कर दी गई है.जिस  तरह से शोएब और आयुष को गोली मारी गई उसमें रेकी करने की बात सामने आई है. मंगलवार को दोपहर  में शोएब के  घर के पास बैठा था, इसी बीच किसी लाइनर ने रेकी कर अपराधियों को शोएब  के घर के पास रहने की बात बता दी. थोड़ी देर  देर में ही दो अपराधी शोएब  के घर के पास आए, उसे बुलाया और कनपट्टी में गोली  मारकर फरार हो गए. शाम में पीएमसीएच में आयुष टाटा वार्ड के पास था. इसके बारे में भी किसी ने शोएब  और बिकाऊ के आदमी को े बता दिया. शोएब और बिकाऊ के दोनों रिशतेदार हथियार लेकर पहुंचे और आयुष पर फायरिंग शुरू कर दी.

पीएमसीएच परिसर में मरीजों को  ले जाने के लिए तीन गिरोह  प्राइवेट एंबुलेंस चलवाता है. थानेदार  के मुताबिक एक गिरोह  बैजू कहार का है जबकि दूसरा बिकाऊ का है. तीसरा एक अन्य गिरोह है जो एंबुलेंस चलवाता है. करीब 40 से 50 प्राइवेट एंबुलेंस वहां हमेशा रहते हैं. बुकिंग होने  पर प्राइवेट एंबुलेंस से यह गिरोह कमीशन लेता है. तीनों गिरोह का समय समय तीन शिफ्ट में बंटा हुआ है.

;
HTML Code here

-sponsored-

Comments are closed.