By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

गोपालगंज में छात्र का अपहरण, परिजनों से 1 करोड़ फिरौती की मांग

- sponsored -

एकबार स्कूली बच्चे अपराधियों के निशाने पर आ गए हैं. बिहार के गोपालगंज में 15 वर्षीय स्कूली छात्र के अपहरण का मामला सामने आया है. अपहरण की घटना के अगले दिन ही अपहर्ताओं ने पीड़ित परिजनों को फोन कर एक करोड़ रूपये की फिरौती की मांग कर पुलिस को सकते में डाल दिया है.

-sponsored-

गोपालगंज में छात्र का अपहरण, परिजनों से 1 करोड़ फिरौती की मांग

सिटी पोस्ट लाइव : एकबार स्कूली बच्चे अपराधियों के निशाने पर आ गए हैं.बिहार के गोपालगंज में 15 वर्षीय स्कूली छात्र के अपहरण का मामला सामने आया है. अपहरण की घटना के अगले दिन ही अपहर्ताओं ने पीड़ित परिजनों को फोन कर एक करोड़ रूपये की फिरौती की मांग कर पुलिस को सकते में डाल दिया है. मामला बैकुंठपुर थानाक्षेत्र के बनौरा डुमरी गांव का है. इस मामले में पीड़ित परिजनों ने गोपालगंज के सदर एसडीपीओ और एसपी को आवेदन देकर मदद की गुहार लगायी है. अपहृत छात्र का नाम कुणाल कुमार है जो बैकुंठपुर के बनौरा डुमरी गांव के रहने वाले एक साधारण किसान दिलीप सिंह का पुत्र है.

पीड़ित परिजनों के मुताबिक कुणाल कुमार उर्फ़ भोलू बीते 27 जनवरी से अचानक लापता हो गया.हर जगह उसकी तलाश परिजनों ने किया. लेकिन उनके बच्चे का कही कोई सुराग नहीं मिला. इसके बाद परिजनों के मोबाइल पर अगले दिन अज्ञात नम्बर से कॉल आया.परिजनों से अपहर्ताओं एक करोड़ की फिरौती की मांग की गई.जब से बच्चे का अपहरण हुआ है हर कोई किसी अनहोनी की आशंका से सहमा हुआ है. पीड़ित परिजन अपने बेटे की रिहाई के लिए हर जगह अधिकारिओ के पास जाकर मदद की गुहार लगा रहे है. इस मामले में पीड़ित परिजनों ने एसपी, एसडीपीओ से लेकर बैकुंठपुर के पूर्व विधायक व जदयू नेता मंजीत सिंह से मुलाकात की और अपने बेटे की अपहरण की दास्तान सुनाई.

Also Read

-sponsored-

इस मामले में सदर एसडीपीओ ने अगले 24 घन्टे में अपहृत को मुक्त कराने का आश्वासन दिया है. बहरहाल पुलिस सदर एसडीपीओ ने इस मामले में कैमरे के सामने कुछ भी बोलने से इंकार करते हुए कहा कि पुलिस मोबाइल सीडीआर के आधार अपहरणकर्ताओं के पास पहुचने की कोशिश कर रही है. जल्द ही मामले को सुलझा लिया जायेगा.छात्र के परिजनों की चिंता ये है कि उनकी हैसियत फिरौती देने की है नहीं, ऐसे में उन्हें अपने बच्चे की सुरक्षा की चिंता बेहद सता रही है.

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.