By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

पूर्ण शराबबंदी वाले बिहार में जहरीली शराब से 16 लोगों की मौत. कारवाई के नाम पर चौकीदार निलंबित.

HTML Code here
;

- sponsored -

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव :पूर्ण शराबबंदी वाले राज्य बिहार में जहरीली शराब से 16 लोगों की मौत हो जाना कोई मामूली बात नहीं है.लेकिन सरकार और पुलिस इसको कितनी गंभीरता से ले रही है, इस बात का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जहरीली शराब पीने से 16 लोगों की हुई मौत के लिए एक चौकीदार को दोषी मानकर उसे दण्डित कर दिया गया है.सबसे बड़ा सवाल- क्या ऐसे सफल होगा बिहार में शराबबंदी.क्या चौकीदार को सजा देने से रुक जायेगा अवैध शराब का कारोबार ?

बिहार सरकार की गठित जांच कमिटी ने शनिवार को उत्पाद IG अमृत राज के नेतृत्व में जहरीली शराब से 16 लोगों की मौत के मामले की जांच पूरी कर ली है. IG की स्पेशल जांच टीम ने शराब को नवादा में सिलसिलेवार 15 मौतों की वजह माना है. इस दौरान उन्होंने कहा कि घटना में जहरीली शराब की संभावना से इंकार नहीं किया जा सका है. कई मृतकों के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है. वेसरा रिपोर्ट अभी तक आई नहीं है. इस रिपोर्ट के बाद ही स्पष्ट रूप से निष्कर्ष पर पहुंचा जा सकता है.

इस  मामले में 7 अलग-अलग FIR दर्ज हुई हैं.लेकिन अबतक कारवाई के नाम पर केवल एक स्थानीय चौकीदार विकास मिश्रा को निलंबित किया गया है. नवादा के जिलाधिकारी यशपाल मीना ने 15 लोगों की मौत की पुष्टि करते हुए कहा कि रिपोर्ट के आधार पर ही जांच की जाएगी. SP सायली धुरत ने बताया कि प्राथमिक तौर पर अवैध शराब का मामला है. FIR के आधार पर 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

गौरतलब है कि नवादा में जहरीली शराब पीने के कारण होली के बाद 15 लोगों की मौत हो गई थी. लोगों ने प्रशासन के डर से इस बात की कानों-कान किसी को भनक नहीं लगने दी थी. परिवार के लोगों ने 6 शवों का दाह संस्कार कर दिया था, जिसके कारण उनका पोस्टमार्टम नहीं हो पाया था. नवादा जिले की भदौनी पंचायत की मुखिया आब्दा आजमी ने आरोप लगाया था कि जहरीली शराब पीने से कई लोगों की मौत हुई है. साथ ही उन्होंने यह भी आरोप लगाया था कि इलाके में खुलेआम शराब बिक रही है.

;
HTML Code here

-sponsored-

Comments are closed.