By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

सृजन घोटाले का आरोपी इंडियन बैंक का चीफ मैनेजर तमिलनाडु से गिरफ्तार

;

- sponsored -

सृजन घोटाले के दौरान भागलपुर इंडियन बैंक के शाखा में प्रबंधक के तौर देवशंकर मिश्रा तैनात थे.उनके कार्यकाल में आठ करोड़ 79 लाख छह हजार 70 रुपए सृजन के खाते में बैंक से ट्रांसफर किए गए थे.सीबीआई ने वर्तमान में तमिलनाडू में चीफ मैनेजर के पद पर तैनात मिश्र को गिरफ्तार कर लिया है.  

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

सृजन घोटाले का आरोपी इंडियन बैंक का चीफ मैनेजर तमिलनाडु से गिरफ्तार

सिटी पोस्ट लाइव : सृजन घोटाले के जांच में जुटी सीबीआई की टीम ने एक बड़ी कारवाई की है.सीबीआई के सूत्रों के अनुसार भागलपुर स्थित इंडियन बैंक के तत्कालीन शाखा प्रबंधक को गिरफ्तार किया गया है. गौरतलब है कि सृजन घोटाले के दौरान भागलपुर इंडियन बैंक के शाखा में प्रबंधक के तौर देवशंकर मिश्रा तैनात थे.उनके कार्यकाल में आठ करोड़ 79 लाख छह हजार 70 रुपए सृजन के खाते में बैंक से ट्रांसफर किए गए थे.सीबीआई ने तमिलनाडू से तत्कालीन शाखा प्रबंधक और वर्तमान में तमिलनाडू में चीफ मैनेजर के पद पर तैनात मिश्र को गिरफ्तार कर लिया है.

तामिलनाडु के शिवगंगा जिले के कराईकुडी से यह गिरफ्तारी हुई है. कराईकुडी स्थित इंडियन बैंक के जोनल ऑफिस में देवशंकर मिश्रा मुख्य प्रबंधक के पद पर तैनात थे. ट्रांजिट रिमांड पर उन्हें पटना लाने के बाद सीबीआई की विशेष अदालत में पेश किया जाएगा.गौरतलब है कि देवशंकर मिश्रा की गिरफ्तारी सृजन घोटाले से जुड़े भागलपुर कोतवाली तिलकामांझी थाना कांड संख्या 513/2017 में हुई है. पहले यह केस पुलिस ने दर्ज किया था लेकिन बाद में सीबीआई के हवाले कर दिया गया था.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

सीबीआई के सूत्रों के मुताबिक भागलपुर स्थित इंडियन बैंक की शाखा में प्रबंधक के तौर पर जब देवशंकर मिश्रा तैनात थे तब आठ करोड़ 79 लाख छह हजार 70 रुपए सृजन के खाते में बैंक से ट्रांसफर किए गए थे.ये मनी ट्रान्सफर उप विकास आयुक्त सह मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी भागलपुर जिला परिषद के सरकारी खाते से गैर-कानूनीढंग से किया गया था. सरकारी खाते से यह रकम सृजन के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर की गई. इस मामले में देवशंकर मिश्रा के खिलाफ अदालत से गैर जमानती वारंट जारी हुआ था.

21 जुलाई 2019 को ही CBI की विशेष न्यायलय के न्यायाधीश अजय कुमार श्रीवास्तव ने इनके विरुद्ध गिरफ्तारी वारंट जारी किया था. यह वारंट सीबीआई के दायर एफआईआर आरसी 17 (ए) 17 के तहत जारी किया गया था. इसमें 13 लोगों के खिलाफ आरोप पत्र सीबीआई ने दाखिल कर चुकी है.कराईकुडी से गिरफ्तार करने के बाद सीबीआई ने मुख्य प्रबंधक को स्थानीय अदालत में पेश किया.  वहां से पटना लाने के लिए सीबीआई को तीन दिन का ट्रांजिट रिमांड मिला है. ट्रांजिट रिमांड की अवधि समाप्त होने से पहले पटना स्थित सीबीआई की विशेष अदालत में उन्हें पेश किया जाएगा.मिश्र की गिरफ्तारी से सृजन घोटाले से जुड़े कई सनसनीखेज खुलासे की संभावना सीबीआई को है.

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.