By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

JDU नेता आत्महत्या मामले में थानाध्यक्ष समेत तीन पुलिसकर्मी गिरफ्तार

- sponsored -

JDU नेता आत्महत्या का मामला : नगरनौसा थानाध्यक्ष कमलेश कुमार, दारोगा बालेन्द्र राय और चौकीदार संजय पासवान को निलंबित करने के साथ ही गिरफ्तार भी कर लिया गया है. जबकि एक अन्य चौकीदार जितेंद्र कुमार को निलंबित कर दिया गया है, लेकिन वह फरार हो गया है.

Below Featured Image

-sponsored-

JDU नेता आत्महत्या मामले में थानाध्यक्ष समेत तीन पुलिसकर्मी गिरफ्तार

सिटी पोस्ट लाइव : बिहार में नालंदा जिले के नगरनौसा थाना के टॉयलेट में जेडीयू नेता के आत्महत्या मामले में पुलिस विभाग पर तगड़ा डंडा लगा है. नगरनौसा थानाध्यक्ष कमलेश कुमार, दारोगा बालेन्द्र राय और चौकीदार संजय पासवान को निलंबित करने के साथ ही गिरफ्तार भी कर लिया गया है. जबकि एक अन्य चौकीदार जितेंद्र कुमार को निलंबित कर दिया गया है, लेकिन वह फरार हो गया है.

गुरुवार को खबर आई थी कि नालंदा के नगरनौसा थाना में जदयू महादलित प्रकोष्ठ के अध्यक्ष ने कथित तौर पर फांसी लगा आत्महत्या कर ली. बताया जा रहा है कि उन्होंने ये फांसी थाने के शौचालय में लगाई थी, लेकिन स्थानीय लोगों कहना है कि इस मामले में पुलिस की लापरवाही हुई है.घटना से गुस्साए लोग शुक्रवार की सुबह सड़क पर उतर आए और जमकर हंगामा किया. लोगों ने पुलिस पर रोड़ेबाजी शुरू कर दी जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया. जानकारी के अनुसार एक इंस्पेक्टर समेत तीन पुलिस पदाधिकारी चोटिल हो गए.

Also Read

-sponsored-

आक्रोशित लोगों ने बिहारशरीफ- पटना सड़क मार्ग को जाम कर दिया और दोषी पुलिस अधिकारी पर कार्रवाई की मांग की. हंगामा को देख भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई थी. लोगों का कहना है कि इस मामले की सही जांच हो और दोषी पुलिकर्मियों-अधिकारियों पर सख्त कार्रवाई की जाए. घटना के बारे में बताया जा रहा है कि नगरनौसा पुलिस ने मंगलवार को एक किशोरी के अपहरण के मामले में सैदपुर निवासी गणेश रविदास को पूछताछ के लिए थाने में बुलाया था, जहां उसने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. फिलहाल आत्महत्या का कारण अभी तक स्प्ष्ट नहीं हो पाया है.

बताया जाता है कि सैदपुर गांव के ही नरेश साव ने 11 जून को स्थानीय थाना में अपनी पुत्री के अपहरण का मामला दर्ज कराया था. इस मामले में गांव के ही मंजू देवी की पहले गिरफ्तारी हुई थी. गणेश इस मामले में अभ्युक्त नहीं थे. ऐसे में उन्हें हाजत में नहीं रखा गया था.

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.